Tuesday, April 16, 2024
Uncategorized

ममता बनर्जी को बड़ा झटका देंगे,2 सांसद और कुछ विधायक

ममता बनर्जी को जल्द ही एक और झटका लग सकता है. तृणमूल कांग्रेस के संस्थापक सदस्य शिशिर अधिकारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में बीजेपी का दामन थाम सकते हैं. शिशिर अधिकारी तृणमूल कांग्रेस के बागी विधायक एवं मंत्री और अब नंदीग्राम से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी के पिता हैं.

शुभेंदु अधिकारी के भाजपा में शामिल होने के बाद से ही शिशिर अधिकारी को तृणमूल कांग्रेस ने दरकिनार कर रखा है. केंद्रीय मंत्री और कई बार के सांसद शिशिर अधिकारी को तृणमूल की बैठकों में भी आमंत्रित नहीं किया जा रहा. पिछले दिनों जब ममता बनर्जी की नंदीग्राम में रैली हुई थी, तब भी उनको नहीं बुलाया गया.

यहां तक कि ममता बनर्जी नंदीग्राम से चुनाव लड़ेंगी, इसकी घोषणा से पहले शिशिर से सलाह-मशविरा तक नहीं किया गया. तृणमूल कांग्रेस के इस व्यवहार से शिशिर काफी दिनों से क्षुब्ध हैं. दूसरी तरफ, तृणमूल कांग्रेस के बड़े नेता लगातार शिशिर अधिकारी पर हमले बोल रहे हैं. जंगलमहल के सबसे सीनियर नेताओं में शुमार शिशिर अपनी पार्टी के नेताओं के इस व्यवहार से बेहद परेशान हैं.

उनका दर्द यह है कि ममता बनर्जी भी ऐसे लोगों को रोक नहीं रहीं हैं. इसलिए कहा जा रहा है कि शिशिर ने भी अपने दो बेटों की राह पर चलने का मन बना लिया है. सूत्र बता रहे हैं कि 20 मार्च को जब पूर्वी मेदिनीपुर के कांथी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली होगी, तो उस रैली में शिशिर अधिकारी भाजपा का झंडा थाम लेंगे.

लॉकेट चटर्जी की मुलाकात के बाद चर्चा को मिली हवा

इस चर्चा को उस वक्त हवा मिली, जब भाजपा की सांसद लॉकेट चटर्जी ने पिछले दिनों शिशिर अधिकारी से उनके घर पर मुलाकात की. लॉकेट से पूछा गया कि क्या शिशिर अधिकारी भाजपा में शामिल हो रहे हैं, तो उन्होंने कहा कि उनकी राजनीतिक बातचीत नहीं हुई है. लेकिन, यदि शिशिर दा भाजपा में आने के लिए तैयार हो जाते हैं, तो भाजपा को इसका फायदा मिलेगा.

Also read:Bengal Chunav 2021: पीएम मोदी की ब्रिगेड रैली से पहले बंगाल में अमित शाह, TMC सुप्रीमो ममता बनर्जी के गढ़ में करेंगे रोड शो

वहीं, शिशिर अधिकारी ने कहा है कि यदि उन्हें भाजपा से न्योता मिला और उनके बेटों ने अनुमति दी, तो वह पीएम मोदी की रैली में शामिल होने कांथी जायेंगे. शिशिर अधिकारी कांथी लोकसभा क्षेत्र से तृणमूल के सांसद हैं. वहीं, उनके एक और बेटे दिव्येंदु अधिकारी तमलूक के सांसद हैं. शुभेंदु अधिकारी और उनके एक भाई सौमेंदु अधिकारी पहले ही भाजपा में शामिल हो चुके हैं.

जंगलमहल की 40-45 विधानसभा सीटों पर अधिकारी परिवार का प्रभाव

पूर्वी मेदिनीपुर के अधिकारी परिवार का असर पूरे जंगलमहल में है. जंगलमहल में कई जिले आते हैं, जिसमें पूर्वी मेदिनीपुर, पश्चिमी मेदिनीपुर, बांकुड़ा, पुरुलिया, झारग्राम और बीरभूम के अलावा मुस्लिम बहुल जिला मुर्शिदाबाद भी आता है. इन जिलों की कम से कम 40-45 विधानसभा सीटों पर इस परिवार का अच्छा-खासा प्रभाव है.

 

ममता को लगेगा एक और झटका, Suvendu Adhikari के पिता Sisir Adhikari हो सकते हैं BJP में शामिल

तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद शिशिर अधिकारी (Sisir Adhikari) ने कहा है कि यदि उन्हें आमंत्रित किया जाता है तो 20 मार्च को कांठी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की रैली में शामिल होंगे. शिशिर हाल ही में TMC छोड़ BJP में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी के पिता हैं.

कोलकाता: पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव  2021 (West Bengal Assembly Election 2021) की लड़ाई में ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के ‘अपने’ लगातार उन्हें छोड़कर बीजेपी में शामिल हो रहे हैं. तृणमूल कांग्रेस (TMC) के वरिष्ठ सांसद शिशिर अधिकारी (Sisir Adhikari) का नाम भी इस कड़ी में जुड़ने जा रहा है. सांसद शिशिर अधिकारी ने कहा है कि वह 20 मार्च को कांठी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की जनसभा में शामिल हो सकते हैं.

शुभेंदु के पिता हैं शिशिर अधिकारी

शिशिर, बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) के पिता हैं. हाल ही में तृणमूल कांग्रेस (TMC) छोड़ कर भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हुए शुभेंदु नंदीग्राम विधान सभा सीट पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं. बीजेपी में शामिल होने के सवाल पर शिशिर अधिकारी ने कहा, ‘अगर मुझे न्योता दिया गया और मेरे बेटों ने इसकी अनुमति दी, तो मैं मोदी जी की जनसभा में शामिल होऊंगा.’

लॉकेट चटर्जी ने की मुलाकात

बता दें, सांसद शिशिर के दो बेटे शुभेंदु और सौमेंदु अधिकारी बीजेपी में शामिल हो चुके हैं. शिशिर भगत के एक और बेटे दिब्येंदु टीएमसी से सांसद हैं. बीजेपी सांसद लॉकेट चटर्जी शनिवार को शिशिर अधिकारी के आवास पर गई थीं और उन्होंने साथ में दोपहर का भोजन भी किया था. हालांकि, दोनों ने इसे ‘शिष्टाचार भेंट’ बताया था.

ममता की रैली में नहीं पहुंचे

शुभेंदु अधिकारी केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल हुए थे. इसके बाद उन्होंने अपने छोटे भाई सौमेंदु को बीजेपी में शामिल होने के लिए राजी किया. शुभेंदु अधिकारी के छोटे भाई दिब्येंदु और पिता शिशिर अधिकारी क्रमश: तमुक और कांथी से लोक सभा सदस्य हैं. दोनों ही बीते दिनों ममता बनर्जी की रैली में नहीं पहुंचे, इसके बाद से ही इनके बीजेपी में शामिल होने के कयास लगाए जा रहे हैं.

 

Leave a Reply