Friday, June 21, 2024
Uncategorized

सलमान खान की हत्या में हुआ सनसनीखेज खुलासा, कांग्रेसी नेता ने खुद रचा षड्यंत्र, पुलिस अधिकारियों की भूमिका संदेहास्पद

सलमान खान की हत्या का षड्यंत्र गहराया
मारपीट की शुरुआत कांग्रेस प्रत्याशी ने की थी
भाजपा के कार्यकर्ताओं के जाने तक जीवित था ड्राइवर सलमान खान,
गाड़ी  ड्राइवर सलमान खान पर कांग्रेसियों ने चढ़ाई,,
आचार संहिता के लागू रहते कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह को बिना अनुमति धरना देने दिया गया,
कोई भी कार्यवाही नही की गई,
भाजपा के कार्यकर्ताओं पर बिना जांच सीधे हत्या की FIR दर्ज कर ली गयी है…..

 


भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद विष्णुदत्त शर्मा के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने छतरपुर जिले के राजनगर थाना क्षेत्र में विधानसभा चुनाव के मतदान से पहले हुई घटना को लेकर चुनाव आयोग एवं पुलिस महानिदेशक को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने राजनगर में भाजपा के 20 कार्यकर्ताओं सहित 35 लोगों पर बिना जांच के हत्या का मामला दर्ज करने और आचार संहिता के दौरान बिना अनुमित के कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा धरना पदर्शन करने पर सवाल उठाते हुए जांच की मांग की। भाजपा प्रतिनिधि मंडल में प्रदेश महामंत्री भगवानदास सबनानी, विधायक रामेश्वर शर्मा, प्रदेश मंत्री राहुल कोठारी, प्रदेश मीडिया प्रभारी आशीष अग्रवाल, प्रदेश सह मीडिया प्रभारी जुगलकिशोर शर्मा, जिला अध्यक्ष सुमित पचौरी, निर्वाचन विभाग के प्रदेश संयोजक एस.एस. उप्पल, विधि प्रकोष्ठ के सह संयोजक अशोक विश्वकर्मा एवं एडव्होकेट सुनील गुप्ता उपस्थित रहे।

 

कांग्रेसी मानसिकता के अधिकारी हैं थाना प्रभारी व एसपी
ज्ञापन में कहा गया है कि खजुराहो थाना प्रभारी संदीप खरे और छतरपुर पुलिस अधीक्षक अमित सांघी कांग्रेसी मानसिकता के होने के कारण कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी विक्रम सिंह नातीराजा के प्रभाव में आकर उनको राजनीतिक लाभ पहुंचाने की दृष्टि से भाजपा प्रत्याशी को नुकसान पहुंचाने के लिए षडयंत्र में शामिल होकर झूठा प्रकरण दर्ज किया है।

कांग्रेस प्रत्याशी व उनके समर्थकों ने राजनीतिक लाभ लेने सलमान पर चढ़ाई है कार
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में ज्ञापन सौंपने के बाद भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि घटना स्थल पर विक्रम सिंह नातीराजा और उनके ड्राइवर सलमान खान द्वारा मारपीट कर जान से मारने की धमकी दी गई। घटना के समय सलमान द्वारा बंदूक से फायर किया गया था। सलमान एवं उसके साथी गाड़ी के ऊपर चढकर मारपीट कर रहे थे, गाड़ियों के कांच फोड़े गये एवं बंदूक, लाठी-डंडां के साथ धारदार हथियारों से हमला किया गया। विक्रम सिंह नातीराजा, उनके ड्राइवर सलमान व उनके समर्थकों की लापरवाही एवं उत्तेजना पूर्वक कार्य से उक्त घटना घटित हुई है। इसके बाद विक्रम सिंह नातीराजा द्वारा अपने साथियों के साथ मिलकर सलमान के ऊपर गाड़ी चढ़ा दी, ताकि घटना को राजनीतिक रंग दिया जा सके, जिसके लिए वे स्वयं जिम्मेदार हैं।

शव पर राजनीति कर रहे दिग्विजय सिंह
पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि कांग्रेस नेता आचार संहिता के बावजूद आखिर किसकी अनुमति से धरना प्रदर्शन खजुराहो थाने के सामने धरना दे रहे है। शव पर राजनीति की जा रही है। कमनलाथ और दिग्विजय सिंह को पता चल गया है कि वो चुनाव हार रहे हैं। उसकी खीझ के लिए दोनों मिलकर इस तरह के राजनीतिक हथकंडे अपना रहे है। शर्मा ने कहा कि आचार संहिता के दौरान जो बिना अनुमति के धरना दे रहे हैं उन पर और जिन्होंने अनुमित दी है, उन पर भी कार्रवाई की जाए।

 

20 पार्टी कार्यकर्ताओं सहित 35 लोगों पर बिना जांच के हत्या का मामला दर्ज किया
प्रदेश अध्यक्ष शर्मा ने कहा कि पुलिस अधिकारियों ने कांग्रेस नेताओं के दबाव में भारतीय जनता पार्टी के 20 कार्यकर्ताओं सहित 35 पर बिना जांच के हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। यह देश का ऐसा पहला मामला है, जहां दुर्घटना पर बिना जांच के 35 लोगों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। शर्मा  ने कहा कि पुलिस अधिकारियों ने भेदभाव पूर्ण का रवैया अपनाकर झूठा मुकदमा दर्ज किया है। इस मामले की जांच होनी चाहिए और अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए। शर्मा ने कहा कि मैं घटना पर संवेदना व्यक्त करता हूं, लेकिन भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी और कार्यकर्ताओं पर प्राण घातक हमला किया गया। उनके ड्राइवर की मौत पर आशंका है कि चुनाव को प्रभावित करने के लिए नातीराजा के गुंडों ने ही ड्राइवर की अपनी गाड़ी से कुचल करके हत्या कर दी इसकी कड़ी जांच होनी चाहिए।

भाजपा कार्यकर्ता की शिकायत पर न जांच, न एफआईआर
पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शर्मा ने कहा कि कांग्रेस प्रत्याशी व उनके समर्थकों ने भाजपा कार्यकर्ताओं की कार पर चढ़कर तोड़फोड़ कर मारपीट की। हमले में भाजपा कार्यकर्ता घायल भी हुए हैं, लेकिन खजुराहो थाना प्रभारी संदीप खरे ने भारतीय जनता युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष नीरज चतुर्वेदी की शिकायत पर न तो घायल कार्यकर्ताओं का मेडिकल कराया और न ही कोई प्रकरण दर्ज किया। भाजपा कार्यकर्ताओं की टूटी-फूटी गाड़ियों का कोई तकनीकी परीक्षण भी नहीं करवाया गया। खजुराहो थाना प्रभारी संदीप खरे और छतरपुर पुलिस अधीक्षक अमित सांघी की प्रशासनिक बदनीयती के साथ कांग्रेस के प्रत्याशी विक्रम सिंह नातीराजा को लाभ पहुंचाने की दृष्टि से भाजपा प्रत्याशी एवं उनके समर्थकों के विरुद्ध बिना किसी जांच के अपराध पंजीबद्ध कर लिया गया, इससे स्पष्ट दिखाता है थाना प्रभारी खजुराहो कांग्रेस के एजेंट के रूप में कार्य कर रहे हैं।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय पहुंचकर भारतीय जनता पार्टी के प्रतिनिधि मंडल ने सौंपे ज्ञापन में कहा है कि 17/11/2023 छतरपुर जिले के राजनगर विधानसभा क्षेत्र में हुई सड़क दुर्घटना को कांग्रेस प्रत्याशी विक्रम सिंह नातीराजा द्वारा राजनीतिक लाभ लेने के लिए भाजपा प्रत्याशी अरविंद पटैरिया व पार्टी कार्यकर्ताओं पर झूठा प्रकरण दर्ज कराया गया है। ज्ञापन में भाजपा ने कहा कि उक्त घटना स्वयं कांग्रेस के प्रत्याशी विक्रम सिंह नातीराजा एवं उनके साथियों द्वारा कारित की गई हैं। दुर्घटना में पीड़ित व्यक्ति विक्रम सिंह नातीराजा का समर्थक होने से खजुराहो थाना प्रभारी संदीप खरे व छतरपुर पुलिस अधीक्षक अमित सांधी द्वारा भेदभाव पूर्वक कार्रवाई करते हुए बिना किसी अनुसंधान, बिना साक्ष्य की जांच के प्रकरण धारा 302, 307,147,149,294 व 506 भारतीय दंड संहिता अंतर्गत दर्ज किया गया है। जबकि उक्त दुर्घटना वाहन दुर्घटना होने से प्रकरण भारतीय दंड संहिता की धारा 279, 337, 338 या 304-ए अंतर्गत पंजीबद्ध किया जाना था।

बिना अनुमति कांग्रेस के धरने को दी मौन स्वीकृति
पुलिस महानिदेशक को ज्ञापन सौंपने के बाद पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि चुनाव आचार संहिता अंतर्गत कानून व्यवस्था बनाए रखने का दायित्व संबंधित थाना प्रभारी, पुलिस अधीक्षक एवं जिला प्रशासन का होता है, परंतु कांग्रेस के प्रभाव में आए पुलिस अधिकारी और प्रशासनिक अधिकारियों ने बिना अनुमति दिए गए कांग्रेस नेताओं के धरने के खिलाफ कोई कार्रवाई न कर उसे मौन स्वीकृति दी गई। पुलिस अधिकारियों के इस कृत्य से क्षेत्र में कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ रही है और शांति भंग हो रही है। क्षेत्र के निवासियों में भय, असुरक्षा का मौहाल है। जिसके कारण धरना दे रहे कांग्रेस नेताओं के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाए। निष्पक्ष जांच होने तक खजुराहो थाना प्रभारी संदीप खरे और छतरपुर एसपी अमित सांघी को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाए। साथ ही घटना की निष्पक्ष जांच कर कांग्रेस प्रत्याशी के विरूद्ध भाजपा कार्यकर्ताओं पर किए गए हमले व वाहन दुर्घटना को लेकर आईपीसी की धारा 304ए के तहत अपराधिक प्रकरण दर्ज किया जाए।

Leave a Reply