Monday, April 22, 2024
Uncategorized

मोहम्मद मुन्फैद, मोहम्मद सैकुल का एनकाउंटर,नूह कांड के बाद छुपे हुए थे पहाड़ियों में,लंगड़े हुए जिहादी

31 जुलाई को नूंह में निकली धार्मिक यात्रा के दौरान हिंदू संगठनों के लोगों पर पत्थर तथा गोली चलाने के मामले में आरोपित दो युवकों को क्राइम ब्रांच की टीम ने गुरुवार को मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया है। नूंह थाना क्षेत्र के गांव ग्वारका गांव के रहने वाले मुनफेद और सैकुल मामला दर्ज होने के बाद अपने गांव से फरार हो गए थे।

नूंह हिंसा के बाद हरियाणा पुलिस लगातार कार्रवाई कर रही है। गुरुवार को नूंह हिंसा के दो आरोपियों का पुलिस ने एनकाउंटर किया गया है। मुठभेड़ के दौरान एक आरोपी को गोली लगी है। बीती 6 अगस्त तक पुलिस ने कार्रवाई कर 104 एफआईआर दर्ज की हैं और 216 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जबकि 88 और लोगों को हिरासत में लिया गया। इन सभी से पूछताछ हो रही है।

वहीं 10 लोगों को सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। जबकि गुरुग्राम जिले में हिंसा को लेकर शुक्रवार तक 27 एफआईआर दर्ज की गई है और 38 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 60 लोगों को एहतियातन हिरासत में लिया गया है। सूत्रों ने बताया कि भड़काऊ पोस्ट के 2300 वीडियो की जांच चल रही है।
नूंह हिंसा के बाद प्रशासन की कार्रवाई

नूंह में सांप्रदायिक हिंसा के बाद रोहिंग्याओं की अवैध बस्तियों पर जिला प्रशासन का बुलडोजर चला है और 250 से ज्यादा झुग्गियों को ध्वस्त कर दिया गया है। इन रोहिंग्याओं के हिंसा में शामिल होने की जानकारी सामने आई हैं। जानकारी के लिए बता दें कि 31 जुलाई को नूंह में ब्रजमंडल यात्रा निकाली थी। ये यात्रा नूंह के नलहेश्वर मंदिर से शुरू हुई और इसे फिरोजपुर झिरका होते हुए पुन्हाना उपमंडल के सिंगार गांव के शिव मंदिर में समाप्त होना था। लेकिन उससे पहले ही यात्रा के दौरान हिंसा भड़क गई।

 

Leave a Reply