Tuesday, April 16, 2024
Uncategorized

ममता बनर्जी से माफी की मांग,झूठ बोलने,अफवाह फैलाने पर

चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर नंदीग्राम में पूर्व नियोजित हमला होने की बात से इनकार करते हुए रविवार को संकेत दिए कि सुरक्षा में चूक के चलते उन्हें चोटें आईं। सूत्रों ने यह जानकारी दी। इसके बाद, बीजेपी सांसद लॉकेट चटर्जी ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा और कहा कि नंदीग्राम में 10 मार्च को हुई घटना को लेकर कथित झूठे दावे करने के लिए बनर्जी को वहां के लोगों से माफी मांगनी चाहिए। ममता बनर्जी 10 मार्च को नंदीग्राम में हुए कथित हमले में घायल हो गई थीं। उन्होंने आरोप लगाया था कि उन पर हमला करने के लिए साजिश रची गई थी। बीजेपी ने चटर्जी को चुंचुड़ा सीट से मैदान में उतारा है। चटर्जी ने कहा कि चोटिल होने के बाद अस्पताल में भर्ती बनर्जी को देखने के लिए वह और उनकी पार्टी के अन्य नेता अस्पताल गए थे।

उन्होंने कहा, ”हालांकि, मुख्यमंत्री ने हमसे मिलने से इंकार कर दिया और लगातार यही आरोप लगाया कि भाजपा के लोगों ने उन्हें धकेला था।” चुनाव आयोग ने भी अपने निष्कर्ष में पाया कि एक दुर्घटना के चलते मुख्यमंत्री को चोटें आईं और यह एक हमला नहीं था।” हुगली से सांसद लॉकेट चटर्जी ने कहा कि इस मामले में उनकी सरकार के शीर्ष अधिकारियों द्वारा दायर रिपोर्ट और बनर्जी की बातों में ही विरोधाभास है, जिसमें यह साफ है कि किसी ने उन पर हमला नहीं किया और यह केवल एक दुर्घटना थी। चटर्जी ने ममता बनर्जी पर इस घटना के जरिए लोगों की सहानुभूति पाने का आरोप लगाया।

नंदीग्राम घटना के चलते कई अधिकारियों पर गाज
उधर, आयोग ने कड़ी कार्रवाई करते हुए आईपीएस अधिकारी तथा सुरक्षा निदेशक विवेक सहाय को तत्काल पद से ”हटाने” और निलंबित रखने का आदेश दिया है। चुनाव आयोग ने एक बयान में कहा, ”एक सुरक्षा निदेशक के तौर पर जेड प्लस सुरक्षा प्राप्त व्यक्ति की सुरक्षा के प्राथमिक दायित्व पालन करने में बुरी तरह नाकाम रहने के लिये उनके खिलाफ एक सप्ताह के अंदर आरोप तय किये जाएं।” आयोग ने कहा कि राज्य के मुख्य सचिव…. पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) के साथ विचार-विमर्श कर तत्काल एक योग्य सुरक्षा महानिदेशक को तैनात करें।

Leave a Reply