Thursday, February 22, 2024
Uncategorized

1500 करोड़ के शराब घोटाले में, ED से भाग रहा केजरीवाल, अब 25 करोड़ के विधायक खरीद मामले में

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने आज शनिवार (3 फ़रवरी) को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को उनके आधिकारिक आवास पर आम आदमी पार्टी (AAP) के आरोपों की जांच में शामिल होने के लिए नोटिस दिया। जिसमे AAP ने आरोप लगाया था कि भाजपा उनके विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर रही है। सूत्रों ने कहा है कि क्राइम ब्रांच ने आम आदमी पार्टी (AAP) प्रमुख को तीन दिन के भीतर नोटिस का जवाब देने को कहा है। पुलिस ने केजरीवाल से उनके द्वारा लगाए गए शिकार के आरोपों को साबित करने को कहा है।  नोटिस में मुख्यमंत्री से आम आदमी पार्टी के उन सात विधायकों के नाम भी बताने को कहा गया है, जिनसे खरीद-फरोख्त के लिए संपर्क किया गया था। इससे पहले दिन में मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास पर हंगामा मच गया, जब अपराध शाखा की टीम उन्हें जांच में शामिल होने का नोटिस देने के लिए फिर से पहुंची।

सहायक पुलिस आयुक्त (ACP) स्तर के अधिकारी के नेतृत्व वाली टीम ने जोर देकर कहा कि वे व्यक्तिगत रूप से अरविंद केजरीवाल को नोटिस सौंपेंगे, क्योंकि यह उनके नाम पर है, जबकि मुख्यमंत्री आवास के अधिकारियों ने कहा कि वे नोटिस लेने और रिसीविंग देने के लिए तैयार हैं। हालांकि, केजरीवाल के आवास पर अधिकारियों ने आरोप लगाया कि पुलिस उन्हें नोटिस नहीं दे रही है और मीडिया को अपने साथ ले आई है। उन्होंने यह भी कहा कि पुलिस ‘सिर्फ उन्हें बदनाम करने’ के लिए आई थी। इस बीच, अपराध शाखा के सूत्रों ने कहा कि वे व्यक्तिगत रूप से मुख्यमंत्री को नोटिस सौंपना चाहते थे। यह घटनाक्रम शुक्रवार को अपराध शाखा की टीम द्वारा केजरीवाल और कैबिनेट मंत्री आतिशी के आवासों का दौरा करने के एक दिन बाद आया है, ताकि उन्हें इस संबंध में नोटिस दिया जा सके। हालाँकि, दोनों नेताओं ने नोटिस स्वीकार नहीं किया था। उनके इनकार के बाद, दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने कहा था कि उसकी टीम शनिवार को फिर से उनके आवासों का दौरा करेगी।

बता दें कि पिछले हफ्ते, AAP ने आरोप लगाया था कि भाजपा ने उसके सात विधायकों को पार्टी छोड़ने के लिए 25-25 करोड़ रुपये की पेशकश की है, साथ ही केजरीवाल सरकार को गिराने की धमकी भी दी है। केजरीवाल ने एक्स पर एक पोस्ट में आरोप लगाए थे। एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए आतिशी मार्लेना ने आरोप लगाया था कि भाजपा ने दिल्ली में “ऑपरेशन लोटस 2.0” शुरू किया है। उन्होंने पिछले साल AAP विधायकों को पैसे की पेशकश कर अपने पाले में करने की इसी तरह की कोशिश की थी, लेकिन असफल रहे।

आतिशी मार्लेना ने कहा था कि भाजपा ने पहले भी इसी तरह की साजिश रची थी। उन्होंने कहा कि 2022 में उन्होंने पैसे का वादा करके AAP विधायकों को तोड़ने और उन्हें भाजपा में शामिल करने की कोशिश की। AAP के आरोपों के बाद, सचदेवा के नेतृत्व में दिल्ली भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने 30 जनवरी को शहर के पुलिस प्रमुख से मुलाकात की थी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आरोपों की जांच की मांग कर रहे हैं।  पुलिस मुख्यालय में दिल्ली पुलिस आयुक्त संजय अरोड़ा से मुलाकात के बाद, दिल्ली भाजपा प्रमुख वीरेंद्र सचदेवा ने कहा कि केजरीवाल से अपने आरोपों को साबित करने के लिए कहा गया था, लेकिन AAP से कोई भी सबूत के साथ आगे नहीं आया। सचदेवा ने कहा था कि इससे पता चलता है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और उनकी आम आदमी पार्टी (AAP) नेताओं द्वारा लगाए गए आरोप “पूरी तरह से निराधार” थे।

बता दें कि, केजरीवाल ने इससे पहले भी एक बार आरोप लगाए थे कि भाजपा उनके विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर रही है, जब उनसे पुछा गया कि, किस भाजपा नेता ने कॉल किया था, तो उन्होंने नितिन गडकरी और अरुण जेटली का नाम ले लिया था। जिसके बाद जेटली और गडकरी ने केजरीवाल को नोटिस भेजकर कोर्ट में बुला लिया, केजरीवाल अपने आरोपों के पक्ष में कोई सबूत नहीं दे सके, न कॉल रिकॉर्डिंग दिखा सके और न ही दूसरी कोई ऐसी चीज़, जो उनके आरोपों की पुष्टि करती हो। इस तरह हवाई आरोप लगाने के लिए केजरीवाल ने गडकरी और जेटली से बिना शर्त माफ़ी मांग ली थी। हालाँकि, दिल्ली सीएम अब भी आरोप लगा रहे हैं, पर पुलिस को सबूत नहीं दे रहे हैं और न ही किसी नेता का नाम ले रहे हैं, शायद उन्हें डर है कि कहीं फिर से कोर्ट का चक्कर न हो जाए और उन्हें माफ़ी मांगनी पड़े।

Leave a Reply