Monday, April 22, 2024
Uncategorized

मुल्ले मौलवियों के कारनामे, जिस्म के भूखे दरिंदे

उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ के दो अलग-अलग मामलों में एक मौलवी और मौलाना पर पुलिस ने FIR दर्ज की है। अमेठी में एक मस्जिद के मौलाना को तेज आवाज में म्यूजिक बजाकर एक महिला के साथ रंगरेलियाँ मनाते पकड़ा गया है। वहीं, दूसरे मामले में छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में एक दरगाह के मौलवी पर झाड़-फूँक के नाम पर अन्धविश्वास फैलाने के आरोप में केस दर्ज हुआ है। यहाँ से लड़कियों के क्रॉस लगे चित्र भी बरामद किए गए हैं।
मौलाना मौलवी अमेठी छत्तीसगढ़
अमेठी में रंगरलियाँ मनाते मौलाना (दाएँ) गिरफ्तार तो छत्तीसगढ़ में झाडफ़ूंक कर अन्धविश्वास फैलाने वाले मौलवी पर FIR दर्ज (चित्र साभार- भास्कर/अमृत विचार)

उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ के दो अलग-अलग मामलों में एक मौलवी और मौलाना पर पुलिस ने FIR दर्ज की है। अमेठी में एक मस्जिद के मौलाना को तेज आवाज में अश्लील गाने बजाकर एक लड़की के साथ रंगरेलियाँ मनाते पकड़ा गया है। वहीं, दूसरे मामले में छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में एक दरगाह के मौलवी पर झाड़-फूँक के नाम पर अन्धविश्वास फैलाने के आरोप में केस दर्ज हुआ है। यहाँ से लड़कियों के क्रॉस लगे चित्र भी बरामद किए गए हैं।

 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पहला मामला अमेठी के जायस थाना क्षेत्र का है। यहाँ मोजमगंज गाँव की मस्जिद में लगभग 7 साल से एक मौलाना रहता था। वो अक्सर नकाब में रहता था। उसकी गतिविधियों को देखकर गाँव के लोग उस पर नजर रख रहे थे। बुधवार (21 फरवरी 2024) की रात में एक महिला उसकी झोपड़ी में जाते हुए दिखी तो नजर गड़ाए ग्रामीणों ने उसका पीछा किया।

जब लोग झोपड़ी में पहुँचे तो वहाँ मौलाना और महिला एक बिस्तर पर दोनों आपत्तिजनक हालात में मिले। मौलाना ने मामले को रफा-दफा करने की गुजारिश की, लेकिन ग्रामीण नहीं माने। ग्रामीणों का आरोप है कि मौलाना मस्जिद के बगल वाले छप्पर में गाँव की ही एक लड़की के साथ रंगरेलियाँ मनाता था।

 

इसके बाद ग्रामीणों को इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही गश्त करती पुलिस टीम मस्जिद के पास पहुँची और मौलाना को गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान लगभग 18 वर्षीया लड़की के परिजनों को भी बुलाया गया और उन्हें उनकी बेटी सौंप दी गई। ग्रामीणों का आरोप है कि मौलाना अपनी शानो-शौकत पर लाखों रुपए खर्च करता था।

इतना ही नहीं, मौलाना शक्तिवर्धक दवाएँ खाता था और वह ब्रांडेड पानी मँगवा कर पीता था। वह बाहर से लड़कियाँ मँगवाता था और उनके संग रंगरेलियाँ मनाता था। वह साल में एक से अधिक बार जलसे आदि का आयोजन करता था, जिसमें लाखों रुपए लुटाए जाते थे। आरोपित मौलाना का नाम और सही पता गाँव वालों को भी नहीं पता है।

झाड़-फूँक के नाम पर अन्धविश्वास फैलाने वाले मौलवी पर FIR

एक अन्य मामले में छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में झाड़-फूँक के नाम पर समाज में अन्धविश्वास फैला रहे एक मौलवी पर पुलिस ने FIR दर्ज की है। आरोपित का नाम सादिक खान है। सादिक खान पर आरोप है कि उसने तोरवा थाना क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने एक घर को मज़हबी इबादतगाह के रूप में ढाल दिया था।

इसी जगह को वह चिल्ला मुबारकपुर दरगाह बताने लगा था। वह झाड़-फूँक के नाम पर लोगों की बड़ी-से-बड़ी बीमारियों को ठीक करने का दावा भी करता था। छत्तीसगढ़ के उपमुख्यमंत्री विजय शर्मा ने गुरुवार (22 फरवरी 2024) को इस मामले में कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए थे।

बिलासपुर पुलिस ने बताया कि आरोपित मौलवी सादिक खान के खिलाफ टोनही अधिनियम के तहत FIR दर्ज हुई है। वह लोगों पर भूत-प्रेत का साया बताकर उन्हें गुमराह करता था। सादिक खान के ठिकानों से कई लड़कयों की फोटो भी बरामद हुई है, जिस पर क्रॉस लगा हुआ है।

नगर निगम की नोटिस मिलने के बाद फिलहाल घर में बने गुंबद को हटा दिया गया है। इसी जगह पर लगभग 65 ऐसे परिवार चिह्नित हुए हैं, जो अवैध रूप से प्रधानमंत्री योजना आवास से बने मकानों में अवैध तौर पर रह रहे थे। स्थानीय प्रशासन जाँच करके इस मामले में कार्रवाई में जुटा हुआ है।

Leave a Reply