Tuesday, May 28, 2024
Uncategorized

कांग्रेस प्रत्याशी था”बम”…विस्फोट कर दिया भाजपा ने, कांग्रेसी नेता लूट रहे थे प्रत्याशी को…

कांग्रेस प्रत्याशी को जमकर लूटा जा रहा था स्थानीय नेताओं द्वारा,

जय श्री राम बोलने की मनाही,

मंदिरों में जाने पर  शिकायत,

मध्य प्रदेश के इंदौर लोकसभा सीट पर भी आखिरी वक्त में खेला हो गया है। कांग्रेस उम्मीदवार अक्षय कांति बम ने आखिरी दिन अपना नामांकन वापस ले लिया है। ऐसे में कांग्रेस के पास इंदौर में कोई उम्मीदवार नहीं बचा है। बीजेपी विधायक रमेश मेंदोला के साथ कांग्रेस उम्मीदवार अक्षय कांति बम ने नॉमिनेशन जाकर वापस लिया है। यह कांग्रेस के लिए बड़ा झटका है। बीजेपी ने इंदौर से शंकर लालवानी को उम्मीदवार बनाया है।

ये है असली कारण,

कांग्रेस प्रत्याशी को कांग्रेस ने आखिरी दिन का खर्चा बताया था,3 करोड़ 25 लाख, लूट रहे थे लोकसभा टिकट देकर…

कांग्रेस को लगा बड़ा झटका

इंदौर लोकसभा सीट पर कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस उम्मीदवार अक्षय कांति बम ने नामांकन वापस ले लिया है। कांति बम को कांग्रेस ने पहली बार उम्मीदवार बनाया था। अक्षय कांति बम पेशे से कारोबारी हैं। नामांकन फॉर्म भरने के दौरान अक्षय कांति बम ने खुलासा किया था कि वह 14 लाख की घड़ी पहनते हैं। उनके पास पत्नी को मिलाकर करीब 87 करोड़ रुपए की संपत्ति है।

इंदौर में सोमवार को हुए चौंकाने वाले राजनीतिक घटनाक्रम के बाद कांग्रेस यहां से उम्मीदवार विहीन हो गई है। भाजपा के लिए चुनाव मैदान लगभग साफ हो गया है। आक्रामक राजनीतिक दलबदल से भाजपा ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी के गृह क्षेत्र में ही कांग्रेस को मैदान से बाहर कर दिया है। मालवा-निमाड़ के आर्थिक और राजनीतिक केंद्र इंदौर से कांग्रेस पर इस ‘मनोवैज्ञानिक’ जीत का संदेश भी दे दिया।

शाम तक किया प्रचार, जयश्री राम का नारा लगाया तो कांग्रेस नेताओं ने की थी शिकायत

अक्षय बम ने दल बदल और कांग्रेस का साथ छोड़ने की भनक कांग्रेस के नेतृत्व व स्थानीय नेताओं को भी नहीं लगने दी। रविवार शाम तक को वे जनसंपर्क करते रहे। इंदौर के अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्र चंदन नगर व आसपास क्षेत्र में प्रचार के दौरान जयश्री राम के नारे लगाने पर वार्ड के स्थानीय नेताओं ने पार्टी नेताओं को शिकायत की थी कि बम अल्पसंख्यक क्षेत्र में जयश्री राम के नारे लगाकर पार्टी के लिए मुश्किल पैदा कर रहे हैं।

17 साल पुराने मामले में बढ़ाई प्राणघातक हमले की धारा

कांग्रेस को चुनावी मैदान से बाहर करने की पटकथा 4 दिन पहले लिखी जा चुकी थी। कांग्रेस उम्मीदवार अक्षय कांति बम के खिलाफ 2007 में दर्ज हुए प्रकरण में धारा 307 बढ़ाकर अधिरोपित कर दी गई थी। न्यायालय ने इस मामले में 10 मई को आरोपित अक्षय बम को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश दिया था।

इसके बाद भाजपा के स्थानीय नेताओं ने यह कहना शुरू कर दिया कि इस प्रकरण के कारण चलते चुनाव में अक्षय बम की गिरफ्तारी भी हो सकती है। उधर नाम वापसी के बाद कुछ कांग्रेसी नेता यह आरोप लगा रहे हैं कि अक्षय बम द्वारा संचालित कालेजों और जमीन से जुड़े कारोबार को लेकर भी सत्ताधारी दल शिकायत और कार्रवाई की बात कर दबाव बना रहा था।

naidunia_image

कांग्रेस नेताओं पर लगाया असहयोग का आरोप

इधर अक्षय कांति बम ने कांग्रेस से किनारा करने के पीछे किसी तरह के दबाव या प्रभाव से इनकार कर दिया। नामांकन वापस लेने के बाद उन्होंने कांग्रेस को ही कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि कांग्रेस के बड़े नेता ही उनसे चुनाव में असहयोग कर रहे थे। पार्टी और नेताओं से सहयोग नहीं मिलने के कारण ही उन्होंने नाम वापस ले लिया।

कांग्रेस अध्यक्ष बोले बम को डराया-धमकाया

अक्षय कांति बम पर पुराने मामले में धारा 307 बढ़ाकर न सिर्फ दबाव बनाया गया, बल्कि उन्हें डराया-धमकाया गया और आज ले जाकर नामांकन वापस करा दिया गया। लोकतंत्र में विश्वास करने वाले इंदौरवासियों को भाजपा की इस तानाशाही के खिलाफ खड़ा होना होगा। – जीतू पटवारी, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष

कांग्रेस की हालत बदतर हुई

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के अपने घर में ही कांग्रेस प्रत्याशी नामांकन वापस ले रहा है। कांग्रेस की हालत बदतर हो चुकी है। प्रदेश में हम 29 में से 29 सीटें जीतेंगे। – वीडी शर्मा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष

Leave a Reply