Thursday, February 22, 2024
Uncategorized

हिंदुस्तान के दलाल बिके इतिहासकारों के सच:कैसे 5फूटिए अकबर को 7 फु ट 6इंच के महाराणा से बड़ा बनाया

5 फूटिये अकबर को कद के कारण हाथी पर बैठना पड़ता था,

फिल्मकारों ने हीरो बना कर प्रस्तुत किया लेकिन वास्तविक तस्वीर

इतिहासकारों ने महाराणा प्रताप को अपमानित करने और अकबर को शूरवीर साबित करने के लिए इतिहास में यह लिखा कि महाराणा प्रताप को इतने बुरे दिन देखने पड़े कि उन्होंने घास का रोटियाँ खाईं।

यह तथ्य असत्य है। महाराणा प्रताप ने अपने संघर्ष के दिनों में घास की रोटियों का नहीं, अपितु वन्य वनस्पतियों का सहारा लिया था। वे वनस्पतियाँ पोषण से भरपूर थीं। जब महाराणा को जंगल में जीवन व्यतीत करना पड़ा था, तब मेवाड़ की मगरियों और घाटियों की उपजाऊ धरा में वन्य वनस्पतियों की विभिन्न प्रजातियों ने उन्हें और परिवार को अपने पोषक तत्वों से पोषित किया था।

प्रताप व उनकी सेना ने अपामार्ग के बीजों की रोटियाँ खाई थी, जिसे खाने के बाद लम्बे समय तक भूख नहीं लगती है। इसके अलावा रागी, कुरी, हमलाई, कोदों, कांगनी, चीना, लोयरा, सहजन से बनी खाद्य सामग्री भी खूब खाई जाती। खास बात यह है कि इनका वर्षों तक भंडारण करने के बावजूद कीट-प्रकोप नहीं होता है। उदयपुर के अलावा बांसवाड़ा व डूंगरपुर जिले में इनकी अधिकता है।

अनुसंधान मे सामने आया कि दक्षिणी राजस्थान में कुपोषण की वजह परंपरागत खाद्यान्न से विमुख होना भी है। असल में उस वक्त आदिवासी परिवार वन्य वनस्पति की रोटी और सब्जियों से पेट भरते थे। दक्षिणी राजस्थान के वीरो ने इन्हीं कंद-मूल और वनस्पति की रोटियाँ खाकर मुगल सेना को लोहे के चने चबवाए थे लेकिन इस पौष्टिक आहार को जनजाति के लोग भूल बैठे।
असल में इस दक्षिण राजस्थान में कई ऐसी वनस्पतियाँ है, जिनका सेवन आदिवासी परिवार करते थे, लेकिन अब धीरे धीरे छोड़ दिया है। इससे बीमारियाँ घेरने लगी है।यही कारण है कि परम्परागत खाद्यान्न छोड़ते ही बीमारियों ने घर बना लिया।
अधिकतर प्रसूताएँ रक्ताल्पता की शिकार रहती है जिससे बच्चे भी कुपोषित पैदा होते हैं। एक अनुसंधान के अनुसार महाराणा प्रताप कालीन खाद्य व कृषि संस्कृति को पुनर्जीवित करने की जरूरत है जो कुपोषण समाप्त करने में कारगर साबित हो।

वागधरा संस्थान ने पोषण संवेदी खेती तंत्र परियोजना के तहत कई वनस्पतियों की अहमदाबाद की प्रयोगशाला में जाँच करवाई, जिसमें पोषक तत्वों के बेहतर होने की प्रमाणिक जानकारी मिली है। कुरी में 12 प्रतिशत आयरन, 5 ग्राम प्रोटीन और 36 ग्राम कार्बोहाइड्रेट है। माल (बावटा) विटामिन सी व बी-12 का भंडार है तो कांगणी व चीना में विटामिन सी, बी-9 और बी-12 की अधिकता रहती है। कोदो में 12.5 प्रतिशत प्रोटीन, 86 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम 4 मिग्रा और विटामिन सी 22 प्रतिशत तक मिलता है। हमलाई में 7.9 प्रतिशत प्रोटीन, कैल्शियम, कैलोरीज व आयरन का बेहतरीन स्रोत है। इसमें 69 ग्राम कार्बोहाइड्रेट है।
महाराणा प्रताप ने जिस वनस्पति की रोटियाँ खाईं थीं, कुपोषण के कारण आज फिर उनकी जरूरत महसूस हो रही है।

जय महाराणा प्रताप, जय मेवाड़, जय भवानी.
जयश्रीराम..!..❤️🙏🏻🚩

Leave a Reply