Sunday, June 23, 2024
Uncategorized

चीन में मौत का तांडव,हर हफ्ते 6 करोड़ 50 लाख करोना मरीज

भारत में आपके लिए कोरोना वायरस का प्रकोप लगभग थम गया है। लोग अब महामारी के पहले की सामान्य जिंदगी जी रहे हैं। मास्क और पीपीई किट अब बीते जमाने की बात हो गई है। सोशल डिस्टेंसिंग का तो सवाल ही नहीं उठता है। लेकिन, चीन के लिए यह अभी इतना आसान नहीं है। मई के आखिरी हफ्ते में चीनी वरिष्ठ स्वास्थ्य सलाहकार ने जून तक चीन में हर हफ्ते 6.5 करोड़ कोविड-19 मामलों का अनुमान जताया। इसके बाद पूरी दुनिया में हड़कंप मचा हुआ है। लोगों के मन में सवाल है कि क्या कोरोना वायरस फिर से फैलने लगा है। अगर फैल रहा है तो इसका प्रभाव कैसा है। क्या फिर से लोगों को महामारी जैसे माहौल में जीना पड़ेगा, जहां तरह-तरह की पाबंदियां होंगी। ऐसे में आज जानिए कि चीन में कोरोना महामारी के फैलने से दुनिया को कितना चिंतित होना चाहिए।

 

चीन में तेजी से फैल रहा कोरोना

टाइम की रिपोर्ट के अनुसार, चीन अप्रैल से ही कोविड-19 के XBB वेरिएंट से पैदा हुई लहर का सामना कर रहा है। कोविड-19 को आसानी से फैलने वाली बीमारी की पुष्टि करने वाले पहले वैज्ञानिकों में से एक श्वसन रोग विशेषज्ञ झोंग नानशान ने चीन में कोरोना की रफ्तार पर चिंता जताई है। उन्होंने डेटा के आधार पर तैयार एक मॉडल के जरिए यह बताया है कि चीन में शू्न्य कोविड नीति को अचानक समाप्त करने के लगभग छह महीने बाद देश में यह बीमारी कैसे फैल रही है।

दिसंबर से डेटा जारी नहीं कर रहा चीन

चीन ने पिछले साल दिसंबर की शुरुआत में वायरस के साथ जीने की नीति पर चलने के बाद से साप्ताहिक संक्रमण के डेटा को अपडेट करना बंद कर दिया है। चीन में कोरोना संबंधित आकड़ें सरकारी एजेंसी चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन जारी करती थी। चीन में महामारी को रोकने वाले प्रोटोकॉल को अचानक खत्म करने से एक सप्ताह बाद अनुमानित 3.7 करोड़ नए संक्रमण हुए। जनवरी तक विशेषज्ञों ने कहा कि उनका मानना है कि चीन की 1.4 बिलियन आबादी का लगभग 80 फीसदी इस पहली लहर में पहले ही संक्रमित हो चुका था।

जून तक हर हफ्ते चीन में 6.5 करोड़ केस

डॉ झोंग नानशान ने डेटा के अधार पर खुलासा किया कि अप्रैल के बाद दूसरी लहर में मई तक हर हफ्ते 4 करोड़ संक्रमण होने की उम्मीद थी। उन्होंने आशंका जताई कि यह आंकड़ा जून में बढ़कर 6.5 करोड़ तक जा सकता है। हालांकि, उनका यह दावा चीनी स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुमान के खिलाफ जाता है कि कोरोना की लहर अप्रैल में चरम पर थी। बीजिंग में 15 से 21 मई के बीच दर्ज किए गए नए संक्रमणों की संख्या चार सप्ताह में चार गुना बढ़ गई है। झोंग का अनुमान है कि जब तक इस वेरिएंट को टारगेट करने वाली वैक्सीन बाजार में आएगी, तब तक संक्रमण की दर काफी बढ़ चुकी होगी।

 

चीन ने कोरोना के साथ जीना सीख लिया

काउंसिल ऑन फॉरेन रिलेशंस में वैश्विक स्वास्थ्य के वरिष्ठ फेलो यानझोंग हुआंग ने टाइम को बताया कि चीन में कोरोना के मामलों की जानकारी पाना आसान नहीं है। उन्होंने कहा कि सिर्फ बड़े पैमाने पर परीक्षण से ही कोविड-19 की वास्तविक सीमा का पता लगाया जा सकता है। हुआंग ने कहा कि अगर चीन चिंता नहीं करता है तो हमें चिंता नहीं करनी चाहिए। सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारी इस दूसरी लहर की गंभीरता को कम करने की कोशिश करते हैं। ऐसा लगता है कि चीनी लोगों ने वायरस के साथ जीना सीख लिया है।

Leave a Reply