Thursday, February 22, 2024
Uncategorized

(LIVE VIDEO) बेटी बेटी बोलता रहा बलात्कारी अधिकारी,मंत्री का खास,चर्च से हुई शुरुआत, बचाने में लगे कुछ…..

नाबालिग लड़की से महीनों तक दुष्कर्म करने वाले दिल्ली के अधिकारी का सीसीटीवी फुटेज सामने आया है.

दुष्कर्म का मामला सामने आने के बाद आरोपित अफसर को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया.

पुलिस ने आरोपी अफसर और उसकी पत्नी को गिरफ्तार कर लिया है.

नई दिल्ली. दिल्ली सरकार के अधिकारी द्वारा नाबालिग लड़की से रेप के मामले ने तूल पकड़ लिया है. आरोपित महिला एवं बाल विकास विभाग के वरिष्ठ अधिकारी और उसकी पत्नी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. आरोप है कि अधिकारी ने कई महीनों तक बच्ची के साथ दुष्कर्म किया और उसे गर्भवती कर दिया. इस दौरान आरोपित अधिकारी की पत्नी ने बच्ची को गर्भपात के लिए दवा खिलाई थी. वहीं इस बीच आरोपित पति-पत्नी का एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया है.

तीन महीने की अवधि में कई बार उसका यौन उत्पीड़न किया, उसे गर्भवती किया और फिर अपनी पत्नी के साथ मिलकर उसे गर्भपात की गोलियां देकर गर्भावस्था को समाप्त करने की साजिश रची – यह बातें 10वीं कक्षा की 17 वर्षीय छात्र ने कही हैं. दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने दिप्रिंट को बताया कि दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 164 के तहत उसका बयान सोमवार को एक मजिस्ट्रेट के सामने दर्ज किया गया.

सोमवार को दिल्ली सरकार की महिला एवं बाल विकास विभाग के एक उप निदेशक और उनकी पत्नी को गिरफ्तार किया गया. नाबालिग से बलात्कार के आरोप में 51 वर्षीय वरिष्ठ अधिकारी को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने निलंबित कर दिया है. उन्होंने पहले किशोर न्याय बोर्ड के अधीक्षक और महिला एवं बाल विकास मंत्री के विशेष कर्तव्य अधिकारी (ओएसडी) के रूप में भी काम किया था.

 बात करते हुए, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “उसने (नाबालिग) अपने 164 के बयान में खुलासा किया कि आरोपी ने नवंबर 2020 से जनवरी 2021 के बीच कई बार उसके साथ बलात्कार किया. वह उसे ‘मामा’ कहती थी. उसकी पत्नी ने उसे गर्भपात की गोलियां खिला दीं.

बुराड़ी का चर्च, सन्डे प्रेयर और दोस्त की बेटी का बलात्कार: जानिए दिल्ली के अधिकारी ने कैसे की हैवानियत, गिरफ्तारी से पहले भागने की भी कोशिश

खाखा बीवी सहित गिरफ्तार, NCPCR अध्यक्ष बोले – चर्च का रोल संदिग्ध

दिल्ली पुलिस ने एक ईसाई अधिकारी को गिरफ्तार किया है, जिसने 3 महीने तक अपनी दोस्त की नाबालिग बेटी का बलात्कार किया। साथ ही उनकी बीवी सीमा रानी को भी गिरफ्तार किया गया है, जो पीड़िता को गर्भपात की गोलियाँ खिलाती थी। दिल्ली सरकार ने भी उसे निलंबित कर दिया है। प्रेमोदय खाखा नाम का ये अधिकारी दिल्ली की महिला एवं विकास विभाग में बतौर डिप्टी डायरेक्टर कार्यरत था। बुराड़ी में ये घटना हुई। नाबालिग लड़की लगातार आ रहे पैनिक अटैक के कारण अस्पताल में भर्ती है। गिरफ़्तारी से पहले आरोपित ने बीवी सहित भागने की कोशिश भी की थी।
घटना अक्टूबर 2020 से लेकर जनवरी 2021 तक की है, जब लड़की की उम्र मात्र 14 साल हुआ करती थी। फ़िलहाल पीड़िता 17 साल की है। अक्टूबर 2021 में पीड़िता के पिता की मृत्यु हो गई थी, जिसके बाद उसकी माँ ने उसे आरोपित के घर पर पालन-पोषण के लिए रखा था। लड़की आरोपित को ‘मामा’ कह कर बुलाती थी। अब पता चला है कि दोनों परिवार 1998 में चर्च के माध्यम से संपर्क में आए थे। वो चर्च में रविवार की प्रार्थना अटेंड करना जाते थे, उसी दौरान इनकी मुलाकात हुई और वो करीब आए।
जिस चर्च के रोल को NCPCR (राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग) के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो भी कह चुके हैं कि इस पूरे प्रकरण में चर्च का रोल संदिग्ध है। ये पहले शाहदरा में स्थित था और इसका नाम है ‘अमेजिंग ग्रेस चर्च’। अपने जीवन में कई समानताओं के कारण दोनों परिवार करीब आए। दोनों परिवार मूल रूप से झारखंड की राजधानी राँची से ताल्लुक रखते हैं और ईसाई मजहब के लूथरवाद (ईसाई मजहब की प्रोटेस्टैंट शाखा का एक हिस्सा) से संबंध रखते हैं। जब वो दिल्ली आए, तो उन्होंने लूथरवाद का चर्च खोजना शुरू किया और उन्हें शाहदरा में उन्हें ये चर्च मिला।
इस चर्च की स्थापना 1992 में अजीत कुमार होरो ने की थी। वो शाहदरा के ही बिहारी कॉलोनी में रहता था और वहीं चर्च बनाया गया। वो भी राँची का ही रहने वाला था। उसे दिल्ली में लूथरवाद का कोई चर्च नहीं मिला था, इसीलिए उसने इस चर्च की स्थापना की। ये छोटा सा 3 दशक पुराना चर्च 2002 में मुखर्जी नगर चला गया था, उसके बाद 2015 में बुराड़ी चला गया। हालाँकि, मात्र 30 परिवार ही इस चर्च के सदस्य हैं। चर्च के करीबी लोगों ने बताया है कि दोनों परिवार पिछले 25-30 वर्षों से एक-दूसरे को जानते थे।

 

 

 

होरो समेत चर्च के अन्य सदस्यों का कहना है कि ये मानना कठिन है कि प्रेमोदय खाखा ने बच्ची के साथ बलात्कार किया। हालाँकि, अब तो ये भी साफ़ हो चुका है कि वर्कप्लेस पर भी उसने महिलाओं का यौन शोषण किया और जिस ‘सेवा कुटीर’ में वो सुपरिटेंडेंट था वहाँ मौजूद बच्चों के यौन शोषण की बात भी सामने आई थी। वहाँ वित्तीय गड़बड़ियों के आरोप भी लगे थे। दिल्ली हाईकोर्ट द्वारा कई पत्र इस संबंध में भेजे गए, लेकिन विभाग इसे नज़रअंदाज़ करती रही।

Leave a Reply