Monday, March 4, 2024
Uncategorized

क्या दबाव बनाने में सफल होंगे शिवराज?

मध्यप्रदेश की बागडोर संभालने वाले, (17 साल से ज्यादा ) शिवराज सिंह चौहान को भले ही पार्टी आलाकमान ने पांचवीं बार मौका नहीं दिया हो लेकिन शिवराज सिंह लगातर चर्चा के केंद्र में बने हुए है। पार्टी हाईकमान के फैसले का सम्मान करते हुए एक अनुशासित कार्यकर्ता की तरह शिवराज सिंह चौहान ने भले ही मुख्यमंत्री पद छोड़ दिया हो लेकिन वह लगातार जनता के बीच जा रहे है और अपनी लोकप्रियता साबित कर रहे है।

मुख्यमंत्री पद छोड़ने के बाद शिवराज सिंह चौहान गुरुवार विदिशा पहुंचे जहां पर महिलाएं शिवराज से लिपट कर रोने लगी तो पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी अपने आंसू नहीं रोक पाएं और वह बेहद भावुक नजर आए। इस दौरान शिवराज महिलाओं को ढांढस बांधते हुए नजर आए वहीं महिलाओं ने कहा कि “भैय्या आप क्यों चले गए, मामा जी वापस आना, अपनी बहनों के लिए वापस आनाठ। वहीं आज शिवराज सिंह चौहान ने विदिशा की फोटो को अपने सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए लिखा “मेरा परिवार”।

दरअसल मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह की लोकप्रियता किसी से छिपी नहीं है. वे 18 साल तक राज्य के सीएम रहे। राज्यभर में युवा उन्हें ‘मामा’ तो महिलाएं ‘भाई’ कहती है। यहीं कारण है कि मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद उन्होंने सोशल मीडिया पर अपनी पहचान पूर्व मुख्यमंत्री से पहले “भाई और मामा” लिखा है। सोशल मीडिया हैंडल पर अपना बायो बदलकर पूर्व मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश लिखने वाले शिवराज सिंह चौहान ने आज फिर अपने बायो बदलते हुए ‘भाई और मामा  शब्द को जोड़ा। अब शिवराज सिंह चौहान के सोशल मीडिया हैंडल X  पर “भाई और मामा, फॉर्मर चीफ मिनिस्टर ऑफ मध्यप्रदेश” लिखा हुआ है।

वहीं बुधवार को लाल परेड ग्राउंड में मुख्यमंत्री मोहन यादव के शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को लोगों ने उनको घेर लिया था और मामा-मामा के नारे लगाए थे। इस दौरान शिवराज सिंह चौहान अपनी गाड़ी से उतरकर लोगों से मिले, इस दौरान कई महिलाएं भावुक हो गई और उन्होंने शिवराज सिंह चौहान से कहा कि अब एक दिन प्रधानमंत्री बनें।

इससे पहले बुधवार को बतौर कार्यवाहक मुख्यमंत्री आखिरी पौधारोपण करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने भावुक संदेश देते हुए कहा कि “मित्रो अब विदा, जस की तस धर दीनी चदरिया”। वहीं कार्यवाहक मुख्यमंत्री के तौर पर अपनी आखिरी प्रेस कॉफ्रेंस में शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि अपने लिए कुछ मांगने जाने से बेहतर, मैं मरना समझूंगा।

Leave a Reply