Monday, March 4, 2024
Uncategorized

हरामी प्रिंसिपल,भूल गया शिक्षक के कर्तव्य,सुअर से बद्तर, इसकी बेटी ने साथ रहने से मना किया

उत्तर प्रदेश के देवरिया में एक विवादित वीडियो सामने आने के बाद महिला डिग्री कॉलेज की प्रभारी प्राचार्य को पद से हटा दिया गया है. इसके साथ ही पुलिस ने आरोपी के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कर ली है। आरोप है कि प्रभारी प्राचार्य अपने सरकारी आवास पर छात्राओं से छेड़खानी करते थे. माध्यमिक शिक्षा राज्य मंत्री गुलाब देवी ने भी इस मामले में जांच कमेटी बनाने के निर्देश दिए हैं.

दरअसल, प्रभारी प्राचार्य राजेश भारती पर कॉलेज की छात्राओं को बहला-फुसलाकर अपने सरकारी आवास पर बुलाने और फिर गलत तरीके से छूने का आरोप है. यानी उनके साथ छेड़खानी करता था। प्रिंसिपल भारती की कार में एक लड़की के बैठने का वीडियो भी वायरल हुआ है। फुटेज में दिख रहा था कि लड़की प्रिंसिपल के सरकारी आवास से निकलकर उनकी कार में बैठ जाती है। पड़ोसियों ने भी इस मामले में शिकायत की थी। मामला सामने आने पर भारती को तत्काल पद से हटाकर एक जांच कमेटी का गठन किया गया है। वहीं कोतवाली पुलिस ने आरोपी प्राचार्य के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

गौरतलब है कि मामला जब क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी डॉ. अश्विनी कुमार मिश्रा के संज्ञान में आया तो वे कॉलेज पहुंचे थे. उन्होंने इस संबंध में कॉलेज स्टाफ व अन्य अधिकारियों से जानकारी ली थी। दूसरी ओर, राजेश भारती की जगह राखी भारती को कॉलेज का नया प्रिंसिपल नियुक्त किया गया है।

राखी भारती ने कहा, मुझे 5-6 लड़कियों की शिकायत मिली थी कि प्रभारी प्राचार्य लड़कियों को अपने आवास पर ले जाते हैं. मैंने लड़कियों से कहा कि किसी के चरित्र के बारे में ऐसा मत सोचो। लेकिन जब लड़कियों ने सबूत दिया तो मैंने राजेश भारती को ऐसा न करने की चेतावनी दी. यह एक प्रतिष्ठित कॉलेज है। भारती ने पहले तो इस तरह की हरकत करने से मना किया और फिर बाद में इसे स्वीकार कर लिया। और दोबारा ऐसा नहीं करने को कहा। लेकिन फिर भी नहीं माने।

प्रिंसिपल ने आगे कहा, 5-6 लड़कियों ने बैड टच की लिखित शिकायत दी थी. एक वीडियो भी वायरल हुआ है, जिसे देखकर सारी शिकायतें सच होती नजर आ रही हैं। अब हम चाहेंगे कि वह कॉलेज छोड़ दे।

उधर, देवरिया दौरे पर पहुंची राज्य माध्यमिक शिक्षा मंत्री गुलाब देवी ने कहा, महिला डिग्री कॉलेज छेड़छाड़ मामले में 4 लोगों की जांच कमेटी बनाई गई है. जिसमें निःशक्तजन कल्याण अधिकारी, दंडाधिकारी, सीओ शामिल हैं। रिपोर्ट आने के बाद मामला दर्ज किया जाएगा।

इस पूरे मामले पर सीओ सिटी श्रेयस त्रिपाठी ने फोन पर बताया कि आरोपी प्रभारी प्राचार्य राजेश भारती के खिलाफ आईपीसी की धारा 354 व 166 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. अब इस मामले में आगे की कानूनी कार्रवाई की जा रही है।

Leave a Reply