Thursday, July 18, 2024
Uncategorized

कांग्रेस गठबंधन सरकार का कारनामा,इसरो के विज्ञापन में चीन का राकेट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तमिलनाडु दौरे के वक्त ‘कुशालशेखरपट्टीनम’ में ISRO के नए लॉन्च कॉम्प्लेक्स की नींव रख दी गई है। लेकिन इससे पहले इसे लेकर DMK की सरकार ने स्थानीय अखबार में जो विज्ञापन दिया, उसके कारण उनकी उसपर फजीहत हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस पर डीएमके पर निशाना साधा।

दरअसल, जो विज्ञापन डीएमके सरकार की ओर से दिए गए हैं उसमें मुख्यमंत्री स्टालिन और प्रधानमंत्री मोदी की फोटो के पीछे रॉकेट नजर आ रहा है जिसपर कि चीन का झंडा दिखाई दे रहा है। इस विपज्ञापन की तस्वीर आने के बाद सोशल मीडिया पर लोग स्टालिन सरकार की हरकत का विरोध कर रहे हैं और कुछ मजाक बना रहे हैं।

PM मोदी ने तिरुनेलवेली में तो रैली को संबोधित करते हुए कहा, “डीएमके एक ऐसी पार्टी है जो काम तो करती नहीं, लेकिन झूठा क्रेडिट लेने के लिए आगे रहती है। ये कौन नहीं जानता कि लोग हमारी स्कीम पर अपने स्टिकर चिपका देते हैं। अब तो इन्होंने हद कर दी। इन्होंने तमिलनाडु में इसरो लॉन्च पैड का क्रेडिट लेने के लिए उसपर चीन का स्टिकल चिपका दिया है।”

डीएमके सरकार द्वारा दिया गया विज्ञापन

पीएम ने कहा- “ये तमिलनाडु डीएमके के नेताओं के लिए देखना अब संभव नहीं लगता। ये लोग कुछ देख ही नहीं पाते। जो देख नहीं पाते उन्हें क्या कहते हैं आपको मालूम है। इसलिए ये लोग भारत की प्रगति देखने को तैयार नहीं है, भारत के स्पेस की प्रगति देखने को तैयार नहीं हैं और जो पैसे आप देते हैं उन पैसों से इन लोगें ने विज्ञापन दिया और उसमें भारत के स्पेस का चित्र नहीं रखा। भारत के स्पेस की सफलता को वो तमिलनाडु के सामने नहीं रखना चाहते थे। उन्होंने हमारे वैज्ञानिकों का अपमान कर दिया। हमारे स्पेस सेक्टर का अपमान किया। आपके टैक्स के पैसों का अपमान किया। आपका अपमान किया। ऐसा करने वालों को अब सजा देने का मौका आ गया है।”

पीएम मोदी से पूर्व इस मामले को तमिलनाडु के भाजपा नेता अन्नामलाई ने भी उठाया। उन्होंने कहा, “DMK मंत्री थिरु अनिता राधाकृष्णन द्वारा आज तमिल अखबारों को दिया गया यह विज्ञापन चीन के प्रति DMK की प्रतिबद्धता को दर्शाता है और इस बात का उदाहरण है कि उन्होंने हमारे देश की संप्रभुता को दरकिनार किया। उन्होंने याद दिलाया कि तमिलनाडु को पहले अंतरिक्ष केंद्र मिल जाता है। लेकिन डीएमके के कारण ऐसा संभव नहीं हुआ और सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र आंध्र प्रदेश में बना, न कि तमिलनाडु में।

बता दें कि तमिलनाडु में इसरो का नया लॉन्च कॉन्प्लेक्स 986 करोड़ रुपए की लागत से बनेगा। इसमें 5 फैसिलिटी और एक मोबाइल लॉन्च स्ट्रक्चर शामिल होगा। यहाँ से हर 24 लॉन्च किए जाएँगे। इसके निर्माण की जानकारी देते हुए इसरो चीफ एस सोमनाथ ने कहा- भूमि अधिग्रहण पूरा हो चुका है, तमिलनाडु सरकार ने जमीन भी ट्रांसफर कर दी है। निर्माण होने में 2 साल लगेंगे। योजना है कि 2 साल बाद यरहाँ एसएसएलवी लॉन्च किया जाए।

Leave a Reply