Monday, March 4, 2024
Uncategorized

पेट्रोल हुआ 300 ₹ प्रति लीटर

पाकिस्तान में पेट्रोल और डीजल के दाम इतिहास में पहली बार 300 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच गए हैं। पाकिस्तान की कार्यवाहक सरकार ने 15 दिनों के भीतर दो बार पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाकर लोगों पर महंगाई बम फोड़ दिया है। इससे पाकिस्तान में महंगाई के और ज्यादा बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।

Curated By प्रियेश मिश्र | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 1 Sep 2023, 6:24 pm
Pakistan Petrol price
पाकिस्तान में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आग
Follow
इस्लामाबाद: पाकिस्तान में पेट्रोल की कीमत पहली बार 300 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच गई है। कार्यवाहक अनवारुल हक काकर की सरकार ने गुरुवार को पेट्रोल की कीमत में 14.91 और डीजल की कीमत में 18.44 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोत्तरी कर दी। इसके साथ ही पाकिस्तान में एक लीटर हाई स्पीड पेट्रोल जो पहले 290.45 रुपये था, वो अब बढ़कर 305.26 रुपये पहुंच गया है। पाकिस्तान में एक लीटर हाई स्पीड डीजल की कीमत भी 293.40 रुपये से बढ़कर 311.84 रुपये पहुंच चुकी है। इसके अलावा पाकिस्तान सरकार ने एक प्रमुख नीतिगत निर्णय में पेट्रोल पर पेट्रोलियम लेवी को 5 रुपये प्रति लीटर बढ़ाकर 55 रुपये से अधिकतम स्वीकार्य सीमा 60 रुपये प्रति लीटर कर दिया है।

एक्सपर्ट द्वारा रेकमेंडेड टॉप रेटेड स्मार्टचॉइस लैपटॉप्स Rs.28,990/- से शुरू |
15 दिनों में 31 रुपये प्रति लीटर बढ़ा पेट्रोल
पाकिस्तान सरकार ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी के पीछे पाकिस्तानी रुपये का अवमूल्यन और वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की बढ़ी कीमतों का हवाला दिया है। पाकिस्तान सरकार ने 15 दिन पहले ही पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की थी। इसके बावजूद पाकिस्तान की पेट्रोलियम कंपनियों को जबरदस्त घाटा हो रहा था। ऐसे में आगामी चुनावों के ठीक पहले कार्यवाहक सरकार ने दोबारा पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की है। ऐसे में 16 अगस्त के बाद से पाकिस्तान में हाई स्पीड पेट्रोल की कीमतों में संयुक्त रूप से 31.41 रुपये की बढ़ोत्तरी हो चुकी है, जबकि डीजल में यह राशि 38.44 रुपये प्रति लीटर है।
पाकिस्तानी वित्त मंत्रालय ने क्या कहा
वित्त मंत्रालय ने कार्यवाहक प्रधानमंत्री की मंजूरी के बाद देर रात पेट्रोल और डीजल की नई कीमतों की घोषणा की। अपने प्रेस रिलीज में वित्त मंत्रालय ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रोलियम की कीमतों में बढ़ोतरी और विनिमय दर में भिन्नता के कारण सरकार ने पेट्रोलियम उत्पादों की मौजूदा उपभोक्ता कीमतों को संशोधित करने का निर्णय लिया है। निर्णय के तहत हाई स्पीड जीजल की एक्स-डिपो कीमत 293.40 रुपये के बजाय 18.44 रुपये (या 6.3 प्रतिशत) बढ़ाकर 311.84 रुपये प्रति लीटर तय की गई है। पाकिस्तान में अधिकांश परिवहन गाड़ियां हाई स्पीड डीजल का ही इस्तेमाल करती हैं।
Pakistan petrol price
पेट्रोल-डीजल की कीमत का लोगों पर क्या असर

इसी तरह, एक्स-डिपो पेट्रोल की कीमत अगले पखवाड़े के लिए 290.45 रुपये प्रति लीटर के मुकाबले 305.36 रुपये प्रति लीटर तय की गई है, जो 14.91 रुपये (5.13 प्रतिशत) की वृद्धि दर्शाती है। यह उत्पाद ज्यादातर निजी परिवहन, छोटे वाहनों, रिक्शा और दोपहिया वाहनों में उपयोग किया जाता है और इसका सीधा असर मध्यम और निम्न-मध्यम वर्ग के बजट पर पड़ता है। पाकिस्तान में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि से सब्जियों सहित दूसरे खाद्य पदार्थों की कीमतों में वृद्धि का अंदेशा है। इसका सीधा असर आम लोगों की जेब पर पड़ेगा। पाकिस्तान की अवाम पहले से ही चरम महंगाई से जूझ रही है। सरकार ने केरोसीन और हल्के डीजल तेल की कीमतों में किसी बदलाव की घोषणा नहीं की।
तेल की बढ़ी कीमतें आईएमएफ से कर्ज का असर

पाकिस्तान को आईएमएफ से हाल में ही तीन बिलियन डॉलर का बेलआउट पैकेज मिला है। इस बेलआउट पैकेज को देते समय आईएमएफ ने पाकिस्तान पर कई कड़ी शर्तें थोपी थीं। इसमें पेट्रोल और डीजल पर सब्सिडी देने पर एक सीमा तक रोक लगाई गई है। ऐसे में पाकिस्तान सरकार चाहकर पर अपनी जनता को कर्ज लेकर सस्ते में पेट्रोल-डीजल नहीं दे सकती है। आईएमएफ की कोशिश है कि इन शर्तों को लागू कर पाकिस्तान को कैसे भी कर्ज के दलदल से बाहर निकालना है, जिससे दिए गए कर्ज की रिकवरी आसानी से हो सके।

कॉम | Updated: 1 Sep 2023, 6:24 pm

Pakistan Petrol price
पाकिस्तान में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आग
इस्लामाबाद: पाकिस्तान में पेट्रोल की कीमत पहली बार 300 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच गई है। कार्यवाहक अनवारुल हक काकर की सरकार ने गुरुवार को पेट्रोल की कीमत में 14.91 और डीजल की कीमत में 18.44 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोत्तरी कर दी। इसके साथ ही पाकिस्तान में एक लीटर हाई स्पीड पेट्रोल जो पहले 290.45 रुपये था, वो अब बढ़कर 305.26 रुपये पहुंच गया है। पाकिस्तान में एक लीटर हाई स्पीड डीजल की कीमत भी 293.40 रुपये से बढ़कर 311.84 रुपये पहुंच चुकी है। इसके अलावा पाकिस्तान सरकार ने एक प्रमुख नीतिगत निर्णय में पेट्रोल पर पेट्रोलियम लेवी को 5 रुपये प्रति लीटर बढ़ाकर 55 रुपये से अधिकतम स्वीकार्य सीमा 60 रुपये प्रति लीटर कर दिया है।

15 दिनों में 31 रुपये प्रति लीटर बढ़ा पेट्रोल

पाकिस्तान सरकार ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी के पीछे पाकिस्तानी रुपये का अवमूल्यन और वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की बढ़ी कीमतों का हवाला दिया है। पाकिस्तान सरकार ने 15 दिन पहले ही पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की थी। इसके बावजूद पाकिस्तान की पेट्रोलियम कंपनियों को जबरदस्त घाटा हो रहा था। ऐसे में आगामी चुनावों के ठीक पहले कार्यवाहक सरकार ने दोबारा पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की है। ऐसे में 16 अगस्त के बाद से पाकिस्तान में हाई स्पीड पेट्रोल की कीमतों में संयुक्त रूप से 31.41 रुपये की बढ़ोत्तरी हो चुकी है, जबकि डीजल में यह राशि 38.44 रुपये प्रति लीटर है।

पाकिस्तानी वित्त मंत्रालय ने क्या कहा

वित्त मंत्रालय ने कार्यवाहक प्रधानमंत्री की मंजूरी के बाद देर रात पेट्रोल और डीजल की नई कीमतों की घोषणा की। अपने प्रेस रिलीज में वित्त मंत्रालय ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रोलियम की कीमतों में बढ़ोतरी और विनिमय दर में भिन्नता के कारण सरकार ने पेट्रोलियम उत्पादों की मौजूदा उपभोक्ता कीमतों को संशोधित करने का निर्णय लिया है। निर्णय के तहत हाई स्पीड जीजल की एक्स-डिपो कीमत 293.40 रुपये के बजाय 18.44 रुपये (या 6.3 प्रतिशत) बढ़ाकर 311.84 रुपये प्रति लीटर तय की गई है। पाकिस्तान में अधिकांश परिवहन गाड़ियां हाई स्पीड डीजल का ही इस्तेमाल करती हैं।

Pakistan petrol price
FD

पेट्रोल-डीजल की कीमत का लोगों पर क्या असर

F

इसी तरह, एक्स-डिपो पेट्रोल की कीमत अगले पखवाड़े के लिए 290.45 रुपये प्रति लीटर के मुकाबले 305.36 रुपये प्रति लीटर तय की गई है, जो 14.91 रुपये (5.13 प्रतिशत) की वृद्धि दर्शाती है। यह उत्पाद ज्यादातर निजी परिवहन, छोटे वाहनों, रिक्शा और दोपहिया वाहनों में उपयोग किया जाता है और इसका सीधा असर मध्यम और निम्न-मध्यम वर्ग के बजट पर पड़ता है। पाकिस्तान में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि से सब्जियों सहित दूसरे खाद्य पदार्थों की कीमतों में वृद्धि का अंदेशा है। इसका सीधा असर आम लोगों की जेब पर पड़ेगा। पाकिस्तान की अवाम पहले से ही चरम महंगाई से जूझ रही है। सरकार ने केरोसीन और हल्के डीजल तेल की कीमतों में किसी बदलाव की घोषणा नहीं की।

तेल की बढ़ी कीमतें आईएमएफ से कर्ज का असर

पाकिस्तान को आईएमएफ से हाल में ही तीन बिलियन डॉलर का बेलआउट पैकेज मिला है। इस बेलआउट पैकेज को देते समय आईएमएफ ने पाकिस्तान पर कई कड़ी शर्तें थोपी थीं। इसमें पेट्रोल और डीजल पर सब्सिडी देने पर एक सीमा तक रोक लगाई गई है। ऐसे में पाकिस्तान सरकार चाहकर पर अपनी जनता को कर्ज लेकर सस्ते में पेट्रोल-डीजल नहीं दे सकती है। आईएमएफ की कोशिश है कि इन शर्तों को लागू कर पाकिस्तान को कैसे भी कर्ज के दलदल से बाहर निकालना है, जिससे दिए गए कर्ज की रिकवरी आसानी से हो सके।

Leave a Reply