Monday, March 4, 2024
Uncategorized

शर्मनाक चेहरा पुलिस का,बलात्कार होता रहा,रिपोर्ट तक नही लिखी नाबालिग की

पुलिस शर्मनाक चेहरा सामने आया है, बलत्कार पीडि़ता की शिकायत पर कार्यवाही न होने से उसे कई बार दुष्कर्म का शिकार होना पड़ा। हालात ऐसे बने कि नाबालिग पीडि़ता को 3 माह का गर्भ ठहर गया लेकिन अब तक पुलिस ने रिपोर्ट तक दर्ज नहीं की और नाबालिग बेटी को लेकर पिता कानून के रखवालों की चौखट में ठोकरें खा रहा है। गुरुवार को पुलिस कप्तान की चौखट पर पहुंचा, नाबालिग बेटी को लेकर पूरा दिन भूखे पेट इंतजार करता रहा लेकिन एसपी ने मुलाकात नहीं हो सकी और उसे आवेदन देकर वापस लौटना पड़ा। यह शर्मनाक मामला रीवा गोविंदगढ़ थाना की शिवपुरवा चौकी का है। बता दें कि शिवपुरवा चौकी अंर्तगत ग्राम नैकिन निवासी 16 वर्षीय नाबालिग बीते 3 मार्च 2023 को शौच के लिए अपने ट्यूबवेल में गई थी, जहां गांव के ही रहने वाले संतोष पटेल उर्फ सुखी पिता श्रीनिवास पटेल ने अपने दोस्त विकास चतुर्वेदी पिता रामकृष्ण उर्फ कल्लू चतुर्वेदी की सहायता से उसे के साथ दबरन दुष्कर्म किया। आरोपियों ने नाबालिग को डरा-धमका उसे घर जाने का कहा, पीडि़ता अपने पिता के साथ शिवपुरवा चौकी शिकायत करने पहुंची तो उसे वहां से भगा दिया गया। चूंकि आरोपी आदतन अपराधी हैं इसलिए नाबालिग और उसके पिता डरे सहमे रहे और पुलिस की कार्यवाही नहीं होने से उनमें और डर हो गया।
कई बार किया दुष्कर्म
पीडि़ता ने बताया कि शिकायत पर कार्यवाही नहीं होने से आरोपियों के हौसले बढ़ते गए और आरोपी उसे कई बार स्कूल से घर जाते में नहर किनारे ले जाता और उसके साथ जबरन दुष्कर्म करता। आरोपी हमेशा उसे और उसके पिता परिवार को जान से मारने की धमकी देकर छोड़ देता, इधर पुलिस की कार्यवाही नहीं होने से पीडि़ता और डरी सहमी रही और आरोपियों की प्रताडऩा का शिकार होती रही। इस तरह से आरोपियों ने कई दफा उसके साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया। लोक-समाज का डर भी पीडि़ता के सब सहने का बड़ा कारण रहा।

आदतन अपराधियों का खौफ
पीडि़ता ने बताया कि उसके साथ दुष्कर्म करने वाला संतोष पटेल और विकास चतुर्वेदी आदतन अपराधी हैं और वह गांव के लोगो को डराते-धमकाते रहते हैं। यही वजह है कि पुलिस ने उनके खिलाफ शिकायत नहीं दर्ज की और उनके हौसले बढ़ते गए। इस मामले ने पुलिस व्यवस्था पर बड़ा सवाल खड़ा किया है, मामूली से मामले में एफआईअर दर्ज करने वाली रीवा पुलिस ने बलत्कार पीडि़ता की शिकायत पर संज्ञान नहीं लिया और उसे बार-बार दुष्कर्म का शिकार होना पड़ा। बाहुबली आरोपियों के सामने रीवा पुलिस पूरी तरह से नतमस्तक रही।

3 माह का गर्भ ठहरा
पिता के साथ चौकी में जाने पर शिकायत न होने से पीडि़ता पूरी तरह से टूट गई, इधर आरोपी लगातार दुष्कर्म करते रहे और वह घर में डरी-सहमी इस बात की जानकारी नहीं देती, इस बीच पीडि़ता के पेट में दर्द हुआ तो उसे अस्पताल ले जाया गया जहां खुलासा हुआ कि पीडि़ता के पेट में तीन माह का गर्भ है। यह जानकर पिता के होश उड़ गए और वह बेटी को लेकर एक बार फिर एसपी विवेक सिंह से गुहार लगाने के लिए एसपी कार्यालय पहुंचा लेकिन पूरा दिन इंतजार करने के बाद भी एसपी से मुलाकात नहीं हो सकी और वह आवेदन देकर वापस लौट गया।
आत्महत्या की चेतावनी
पीडि़ता नाबालिग ने कहा कि आरोपी लगातार उसे धमका रहे हैं और जान से मारने की धमकी फोन पर दे रहे हैं। वह फरार है। पुलिस किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं कर रही है, वह और उसके पिता शिवपुरवा चौकी से लेकर वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की चौखट तक गुहार लगा चुके हैं और अब आरोपियों पर कार्यवाही नहीं होती है तो वह आत्महत्या करेगी। बता दें कि इस मामले ने रीवा पुलिस का शर्मनाक चेहरा उजागर हुआ है जिसने रीवा की कानून व्यवस्था पर बड़़ा सवाल खड़ा किया है, चार माह से न्याय के लिए भटक रही दुष्कर्म पीडि़ता की एफआईआर तक दर्ज नहीं की गई। पुलिस ने औपचारिकता पूरी करने जीरो पर एफआईआर कर रखी है।
पुलिस ने बताई यह वजह
वहीं इस मामले को लेकर पुलिस ने अलग दावा किया है, बताया कि जब पिता बेटी का गर्भपात कराने संजय गांधी पहुंचा तो मामले की जानकारी पुलिस को हुई, जब पिता और बेटी के बयान लिए गए लेकिन मामले की जानकारी किसी भी प्रकार से उनके द्वारा नहीं दी गई। नाबालिग ने बताया तो गुढ़ थाना में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया। अब पिता और नाबालिग ने दो सप्ताह बाद आरोपियों के नाम बताए हैं, अब आगे की कार्यवाही की जाएगी।

मेडिकल कॉलेज से नाबालिग के संबंध में सूचना मिली थी, बयान भी लिए गए हैं। गुढ़ में मामला दर्ज है। आगे की कार्यवाही की जा रही है।
विवेक सिंह, एसपी रीवा।

Leave a Reply