Saturday, February 24, 2024
Uncategorized

लव जिहाद के ज़हर से पीड़ित उबाल पर,5 महीने 50 जिहादी,फँसाई ज्यादातर नाबालिग, हिंदू महापंचायत होगी ओवैसी दुखी

5 महीने, उत्तराखंड में ‘लव जिहाद’ के 50 मामले… लोगों ने मेडिकल छात्रा की अश्लील तस्वीरें लेकर ब्लैकमेल करने वाले का जुलूस निकाला, धुनाई कर पुलिस को सौंपा

उत्तराखंड के देहरादून में ‘लव जिहाद’ और ब्लैकमेल का मामला सामने आया है। यहाँ मुस्लिम युवक पर अश्लील फोटो के जरिए हिंदू लड़की को धर्मांतरण के लिए ब्लैकमेल करने का आरोप लगा है। इसी बीच आरोपित युवक लोगों के हत्थे चढ़ गया। स्थानीय लोगों ने उसे पीटते हुए जुलूस निकाला। इसके बाद पुलिस के हवाले कर दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मामला देहरादून जिले में डोईवाला थाना क्षेत्र के जॉली ग्रांट इलाके का है। यहाँ मेडिकल की पढ़ाई कर रही छात्रा का आरोप है कि मुस्लिम युवक ने पहले तो उससे दोस्ती की। फिर अश्लील फोटो लेकर उसे धर्मांतरण के लिए ब्लैकमेल करने लगा। मामले की जानकारी मिलने के बाद स्थानीय जनता में आक्रोश व्याप्त था।

इसी बीच युवक घूमता हुआ स्थानीय जनता के हत्थे चढ़ गया। इसके बाद लोगों ने पकड़कर उसकी धुनाई कर दी और इलाके में जुलूस निकाला। फिर थाने जाकर उसे पुलिस के हवाले कर दिया। स्थानीय लोगों ने आरोपित युवक को इतना मारा कि उसके कपड़े तक फट गए। इसके कुछ वीडियो भी सामने आए हैं।

आरोपित मुस्लिम युवक के साथ हुई मारपीट की जानकारी मिलने पर अन्य मुस्लिम भी वहाँ पहुँच गए। मुस्लिमों का आरोप है कि जिस इलाके में आरोपित की पिटाई की गई, उसी इलाके में उनकी दुकान है। दुकान के पास ही भीड़ ने उनके साथ भी मारपीट की। यही नहीं, पुलिस स्टेशन में दोनों पक्षों के बीच आपस में कहासुनी हो गई। इसके बाद मामला बिगड़ता चला गया और थाने में ही हाथपाई शुरू हो गई। मामला शांत न होता देख पुलिस को बीच बचाव करना। इसके बाद मामला शांत हुआ।

वहीं, जागरण ने अपनी रिपोर्ट में पुलिस के हवाले से कहा है कि हिंदू संगठन के नेताओं का आरोप है कि मुस्लिम युवक ने 1 नहीं बल्कि 3 छात्राओं का शोषण किया है। आरोपित इन लड़कियों को नशीला पदार्थ देता था। इसके बाद उनके साथ संबंध बनाते हुए फोटो, वीडियो बनाए। इन्हीं फोटोज के सहारे वह लड़कियों को ब्लैकमेल कर रहा था।

‘लव जिहाद’ के मामलों में हुआ इजाफा

शिकार हिंदू लड़कियों का

उत्तराखंड में लव जिहाद के मामलों में तेजी से इजाफा हुआ है। जहाँ साल 2022 में लव जिहाद के 76 मामले दर्ज हुए थे, वहीं इस साल शुरुआती 5 महीनों में ही मुस्लिम युवकों द्वारा लड़कियों को बहला फुसलाकर ले जाने के करीब 50 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से अधिकांश लड़कियाँ नाबालिग बताई जा रहीं हैं।

पुरोला में नाबालिग लड़की को भगाने के मामले में बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। जहां एक ओर 15 जून को हिंदू महापंचायत बुलाई गई है। तो वहीं दूसरी ओर मुस्लिम सुमदाय ने भी 18 जून को पंचायत का ऐलान कर दिया है।

इसी बीच इस मामले में असदुद्दीन ओवैसी का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने ट्वीट कर 15 जून को होने वाली हिंदू महापंचायत पर रोक लगाने की मांग की है।

हिंदू महापंचायत पर ओवैसी का बड़ा बयान

प्रदेश में पुरोला में नाबालिग लड़की को भगाने के मामले में विवाद कम होता नजर नहीं आ रहा है। अब इस मामले में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर 15 जून को होने वाली महापंचायत पर रोक लगाने की मांग की है।

मुस्लिम लोंगो को दी जाए सुरक्षा

महापंचायत पर रोक लगाने के साथ ही असदुद्दीन ओवैसी ने पुरोला में रह रहे लोगों को सुरक्षा देने की मांग की है। इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि वहां से पलायन कर गए लोगों को वापस बुलाया जाए।

 

उन्होंने कहा है कि भाजपा सरकार का काम है कि गुनहगारों को जेल भेजे और अमन कायम करे। बता दें कि अब तक पुरोला से 12 से ज्यादा व्यापारी दुकानें खाली कर चुके हैं।

सेव उत्तराखंड मुस्लिम हो रहा ट्विटर पर ट्रेंड

पुरोला का मुद्दा राष्ट्रीय स्तर तक पहुंच गया है। इस मामले में अब सेव उत्तराखंड मुस्लिम ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है। बता दें कि 15 जून को होने वाली महापंचायत को विभिन्न व्यापारी संगठनों के साथ सामाजिक संगठनों ने समर्थन दे दिया है।

Leave a Reply