Tuesday, May 28, 2024
Uncategorized

शातिर और निहायत हरामी मोहम्मद आफताब पूनावाला, पागलपन की एक्टिंग, पूरी कहानी,सुअर को कितना नहलाओ खायेगा गंदगी ही

ये दिल्ली है यहां करीब दो करोड़ लोग रहते हैं. देश के सबसे ताक़तवर लोगों का बसेरा भी यहीं है. इन दो करोड़ लोगों की हिफाजत के लिए लगभग 90 हज़ार पुलिसवाले हैं. दिल्ली का ऐसा कोई कोना नहीं जो पुलिसवालों से खाली हो, मगर इन्हीं दो करोड़ लोगों और 90 हज़ार पुलिसवालों को अनदेखा कर एक शख्स बेखौफ दिल्ली भर में घूम-घूमकर पूरे 18 दिनों तक एक लाश के टुकड़ों को फेंकता रहा और किसी को भनक और बू तक नहीं लगी.

दिल्ली का न होकर भी मुंबई से हज़ार किलोमीटर दूर अनजान दिल्ली में आकर एक नौजवान इतना बेखौफ है कि इसी दिल्ली में पहले क़त्ल करता है फिर 18 दिनों तक लाश के टुकड़े लेकर पूरी दिल्ली में घूमता रहता है और फिर काम खत्म हो जाने के बावजूद वो दिल्ली से भागता नहीं बल्कि इसी दिल्ली में बेखौफ रहता है. ये कहानी है उस आफताब की, जिसने श्रद्धा का बेरहमी से कत्ल किया और उसकी लाश के 20 से अधिक टुकड़े किए.

कहानी शुरू होती है मुंबई से
27 साल की श्रद्धा विकास वॉलकर नौकरी की तलाश में पहली बार मुंबई आती है. महाराष्ट्र के पालघर में अपनी मां और भाई को छोड़कर. श्रद्धा के पिता विकास मदन वॉलकर पालघर में इलेक्ट्रॉनिक सामान की एक दुकान और सर्विस का काम करते थे. मदन वॉलकर 2016 से ही अपने परिवार से अलग रह रहे थे. उनके परिवार में बेटी श्रद्धा के अलावा पत्नी सुमन और 23 साल का एक बेटा है. श्रद्धा को मलाड में एक मल्टीनेशनल कंपनी के कॉल सेंटर में नौकरी मिल जाती है.

इसी कॉल सेंटर में 30 साल का आफताब अमीन पूनावाला भी नौकरी कर रहा था. यहीं श्रद्धा और आफताब की पहली बार मुलाकात होती है. करीब 8-9 महीने की मुलाकात के बाद दोनों में प्यार हो जाता है. 2019 की शुरुआत में श्रद्धा और आफताब फैसला करते हैं कि अब वो अलग अलग रहने की बजाए एक साथ लिव इन में रहेंगे. इसके बाद दोनों मलाड में किराए का एक घर ले लेते हैं. श्रद्धा की मां और पिता अब भी पालघर में हैं.
आफताब के साथ लिव इन में रहने लगी थी श्रद्धा

लिवइन में रहने के कुछ दिन बाद ही श्रद्धा एक रोज अपनी मां को आफताब के बारे में सारा सच बता देती है. मां से होते हुए ये बात बाप तक पहुंचती है. दोनों आफताब के साथ श्रद्धा के रिश्ते का विरोध करते हैं. बातचीत के लिए श्रद्धा को पालघर बुलाते हैं. श्रद्धा पालघर आती है. मगर मां बाप के समझाने के बावजूद वो आफताब के साथ लिव इन में रहने और उसी से शादी करने की जिद पर अड़ी रहती है.
मां-बाप के गुस्सा करने पर आखिरकार श्रद्धा घर से अपना सारा सामान उठाती है और ये कहकर चली जाती है कि अब ये समझ लेना कि आज से आपकी कोई बेटी ही नहीं है. अब कुछ वक़्त तक श्रद्धा और उसके घरवाले एक दूसरे से दूरी बना लेते हैं. मगर श्रद्धा के दोस्तों श्रद्धा के फेसबुक और उसके वॉट्सएप स्टेटस से श्रद्धा के मां-बाप को लगातार उसके बारे में जानकारी मिल रही थी. इसी दौरान 23 जनवरी 2020 को श्रद्धा की मां सुमन की मौत हो जाती है.

श्रद्धा ने मां-बाप को बताई थी आफताब की सच्चाई

है. ये बात हैरान करने वाली थी. इसके बाद महरौली पुलिस की टीम आफताब से पूछताछ शुरू करती है. शुरुआत में आफताब पुलिस को एक कहानी सुनाता है. वो कहता है कि श्रद्धा और उसका 19 मई को झगड़ा हुआ था. झगड़े के बाद उसी रोज श्रद्धा घर और उसे छोड़कर चली गई.
इस दौरान पुलिस ने छतरपुर में आफताब के इस घर की तलाशी भी ली थी, लेकिन तब ऐसा कुछ नहीं मिला जिससे आफताब पर शक होता. पूछताछ और सवाल जवाब के दौरान कई बार आफताब अपने ही बयानों को काटता रहा. पुलिस को लग गया कि वो कुछ छुपा रहा है. इसके बाद जब पुलिस ने सख्ती से पूछताछ शुरू की तो फिर आफताब ने एक ऐसी कहानी सुनाई जो करोड़ की आबादी और 90 हज़ार पुलिस वाली इस दिल्ली में शायद ही इससे पहले सुनी या सुनाई गई हो.
आफताब ने गला दबाकर श्रद्धा को मार डाला

वो 18 मई की रात थी…जब आफताब और श्रद्धा का झगड़ा हुआ. झगड़े की वजह वही पुरानी थी. श्रद्धा शादी करना चाहती थी और आफताब हमेशा की तरह टाल रहा था. मगर इस रात झगड़ा इतना बढ़ गया कि गुस्से में आफताब ने श्रद्धा का गला जोर से पकड़ लिया और तब तक पकड़े रहा जब तक कि वो मर नहीं गई.क़त्ल के बाद अब उसने ठंडे दिमाग से लाश को ठिकाने लगाने की साज़िश रचनी शुरू की. पहली रात उसने लाश के साथ उसी घर में गुजारी.
अगले रोज यानी 19 मई को दिन में वो लोकल मार्केट की तिलक इलेक्ट्रॉनिक शॉप से एक बड़ा वाला फ्रिज खरीदकर लाता है. साथ ही एक बड़ी आरी. घर आने के बाद अब वो बाथरूम में बैठकर लाश के छोटे छोटे टुकड़े करना शुरू करता है. छोटे छोटे पॉलिथिन वो पहले ही ला चुका था. पर चूंकि मई का महीना था. गर्मी तेज़. लाश लगभग 24 घंटे पुरानी होने वाली थी लिहाजा बदबू आनी शुरू हो गई थी. अब वो लाश के टुकड़े करता. बाथरूम साफ करता और बीच बीच बीच में पूरे घर में परफ्यूम डालता जाता.
अमेरिकन क्राइम सीरिज से हत्या का आईडिया
27 साल की श्रद्धा वालकर ने जिस लड़के के प्यार में अपनी फैमिली, अपना शहर छोड़ा, अपने दोस्तों को छोड़ा. उसी प्रेमी का उसकी सांसों से भी नाता खत्म कर दिया. मुंबई से सटे वसई की रहने वाली श्र्द्धा के प्रेमी और आरोपी आफताब ने दिल्ली में उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी. फिर 18 दिनों तक शव के छोटे-छोटे टुकड़े कर महरौली के जंगल में फेंकता रहा ताकि वो किसी की पकड़ में ना आए.

शव के टुकड़े करने का आइडिया आरोपी को अमेरिकन क्राइम सीरिज Dexter से आया. उसने श्रद्धा के करीब 20 टुकड़े किए थे. श्रद्धा के दोस्तों ने ये भी बताया है कि एक बार श्रद्धा ने उन्हें मेसेज करके बोला था कि मुझे यहां से ले जाओ वर्ना आफताब मुझे मार डालेगा, तब दोस्तों ने श्रद्धा को रेस्क्यू किया और उससे कहा कि वो कभी आफताब के पास दोबारा ना जाए, लेकिन श्रद्ध ने उनकी बात नहीं सुनी और फिर आफताब के साथ रहने पहुंच गई.

Leave a Reply