Monday, April 22, 2024
Uncategorized

मध्यप्रदेश कांग्रेस का टिकट घोषित,ना कमलनाथ न दिग्गी, न राहुल न प्रियंका

न कमलनाथ न दिग्विजय सिंह ने राहुल ना प्रियंका
सज्जन सिंह वर्मा ने फाइनल किया कांग्रेस का एक टिकट?
अभी मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में काफी वक्त बचा है, लेकिन अभी से उम्मीदवारों के टिकट को लेकर घमासान मच गया है. पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने देवास जिले का एक टिकट फाइनल करने की घोषणा की है. इस एलान के बाद कांग्रेस के दूसरे दावेदारों ने मोर्चा खोल दिया है.

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस में गुटबाजी को लेकर हमेशा से आवाज उठती आई है. पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह इस बात को भी स्वीकार कर चुके हैं कि बीजेपी के मुकाबले कांग्रेस का संगठन कमजोर है और इसे मजबूत किया जाना जरूरी है. इन सबके बीच अब देवास में कांग्रेस के दो धड़ों के बीच घमासान मच गया है. कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे सज्जन सिंह वर्मा ने हाटपिपलिया सीट पर एक दावेदार को प्रत्याशी घोषित किया है. उन्होंने पूर्व विधायक राजेंद्र सिंह बघेल के बेटे राजवीर सिंह बघेल को टिकट देने की घोषणा कर दी है.

 

‘सज्जन सिंह वर्मा को टिकट फाइनल करने का अधिकार नहीं

सज्जन सिंह वर्मा ने राजवीर सिंह बघेल का टिकट फाइनल बताते हुए लोगों को मदद के लिए आगे आने को कहा है. दूसरी तरफ यह वीडियो वायरल होने के बाद अब कांग्रेस के दूसरे दावेदारों में खलबली मच गई है. एक अन्य दावेदार विश्वजीत चौहान का कहना है कि पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा को टिकट फाइनल करने का कोई अधिकार नहीं है. प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ पार्टी का टिकट फाइनल करेंगे. अभी यह वक्त आया नहीं है. इसके अलावा और भी दावेदार इस घोषणा के बाद खुल कर सामने आ रहे हैं.

जानें क्या बोले सज्जन सिंह वर्मा
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के सबसे खास माने जाने वाले पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने हाटपिपलिया में कहा कि राजेंद्र सिंह बघेल दिल्ली भोपाल नहीं गए थे और उनका टिकट फाइनल हो गया था. इसी तरह अब राजवीर बघेल का टिकट भी फाइनल हो गया है. उन्होंने लोगों से अपील की कि उन्हें हाटपिपलिया सीट कांग्रेस के खाते में चाहिए. यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है. इस वीडियो के जारी होने के बाद दूसरे प्रत्याशियों ने और भी जतन करना शुरू कर दिए हैं.

हाटपिपलिया सीट पर बदल गए समीकरण
हट केडिया सीट पर राजेंद्र सिंह बघेल विधायक के रूप में चुने गए थे. इसके बाद जब पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी के बेटे दीपक जोशी की एंट्री हुई तो वे लगातार दो बार यहां से विधायक रहे. इसके बाद मनोज चौधरी ने कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में दीपक जोशी को चुनाव हरा दिया. एक बार फिर उपचुनाव में मनोज चौधरी की जीत हो गई. इस बार भी बीजेपी की ओर से मनोज चौधरी ही उम्मीदवार माने जा रहे हैं.

 

Leave a Reply