Tuesday, May 28, 2024
Uncategorized

नग्न लाश का रहस्य 2: कपड़ो के बाहर ऋषभ तिवारी,कपड़ो के अंदर इमरान कबाड़ी,पुराना फोन लेकर भागा कबाड़ी

नोएडा की रहने वाली दीक्षा मिश्रा की नैनीताल के एक होटल में हत्या कर दी गई। हत्या करने के बाद आरोपित इमरान फरार है जिसकी तलाश में पुलिस जुटी हुई है हालाँकि दीक्षा के परिजनों ने इसे लव-जिहाद करार दिया है और बताया है कि इमरान ने पहले अपना नाम ऋषभ तिवारी बताया था।
ज्ञात हो कि नोएडा के होरिजन होम्स एक्सटेंशन की रहने वाली दीक्षा मिश्रा 14 अगस्त 2021 को इमरान और अपने दो अन्य दोस्तों के साथ नैनीताल घूमने गए थे। 15 अगस्त को दीक्षा का जन्मदिन मनाने के बाद सभी ने एक ही कमरे में पार्टी की और उसके बाद सभी अपने कमरे में चले गए। इसी दौरान रात में इमरान के दीक्षा की हत्या करके फरार होने का संगीन आरोप है। कोतवाली पुलिस ने फ़िलहाल इमरान के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है और एसआई नितिन बहुगुणा के नेतृत्व में पुलिस की एक टीम आरोपित इमरान की गिरफ्तारी के लिए नोएडा के लिए रवाना हुई।
दीक्षा एक रियल इस्टेट कंपनी में एक अच्छे पद पर काम करती थी जबकि इमरान एक कबाड़ी था। दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार दीक्षा के परिजनों ने लव-जिहाद का आरोप लगाते हुए कहा है कि आरोपित इमरान ने अपना नाम ऋषभ तिवारी बताया था। दीक्षा के भाई अंकुर मिश्रा का कहना है कि जब वह आरोपित इमरान से मिला था तब उसने अपना नाम ऋषभ तिवारी बताया था साथ ही दोस्तों ने भी यह आरोप लगाया है कि आरोपित की फेसबुक आईडी भी ऋषभ तिवारी के नाम से ही थी।
हत्या का आरोपित इमरान दीक्षा का फोन लेकर फरार हुआ है। बताया जा रहा है कि उसने दीक्षा की 11 साल की बेटी को फोन लगाकर दीक्षा के फोन का पासवर्ड पूछा। इसके अलावा वह दीक्षा के फ्लैट से जरूरी कागजात भी अपने साथ ले गया है। दीक्षा की सन् 2008 में शादी हुई थी लेकिन पति द्वारा शराब पीकर मारपीट करने के बाद दीक्षा अपने पति से अलग रह रही थी। दीक्षा की एक 11 साल की बेटी भी है।

प्यार और नासमझी में बड़ा अंतर होता है, लेकिन नोएडा की दीक्षा इस बात को समझ नहीं पाई। 31 साल की दीक्षा ऋषभ तिवारी के प्यार में इस कदर पागल हुई कि अपने परिवार की भी नहीं सुनी। 15 अगस्त को दीक्षा का बर्थडे था। वो ऋषभ और अपने दो अन्य दोस्तों संग नैनीताल घूमने आई थी। रात को सबने पार्टी की, अगली सुबह दीक्षा अपने कमरे में मरी हुई पाई गई। उसके शरीर पर कपड़े तक नहीं थे। अब पता चला है कि जिस ऋषभ तिवारी से दीक्षा प्यार करती थी, उसका असली नाम इमरान है। मृतक के दोस्त और परिजन पूरे मामले को लव जेहाद से जुड़ा बता रहे हैं। घटना के बाद से ऋषभ उर्फ इमरान फरार है। दीक्षा के भाई ने बताया कि वो कई बार आरोपी युवक से मिल चुका था। इमरान हर बार अपनी नाम ऋषभ तिवारी बताता था। उसने इसी नाम से फेसबुक आईडी भी बनाई है। दीक्षा का तलाक का केस चल रहा है। उसकी 11 साल की एक बेटी भी है। भाई अंकुर ने बताया कि दीक्षा बचपन से ही होनहार थी। पिता के निधन के बाद पूरा घर उसी ने संभाला। वो रियल एस्टेट कंपनी में अधिकारी थी, जबकि इमरान कबाड़ी का काम करता था। आगे पढ़िए
दीक्षा के दोस्तों के मुताबिक आरोपी इमरान सोमवार सुबह नोएडा भी आया था। दीक्षा के भाई अंकुर मिश्रा ने बताया कि साल 2008 में दीक्षा की शादी खुरजा निवासी पवन शर्मा से हुई थी। पति शराब पीकर दीक्षा से मारपीट करता था। इसलिए दीक्षा उससे अलग रहने लगी। पवन और दीक्षा का तलाक नहीं हुआ है। कुछ समय पहले उसकी मुलाकात ऋषभ तिवारी उर्फ इमरान से हुई। दोनों साथ रहने लगे। कुछ समय पहले ही दीक्षा ने नोएडा में अपना नया फ्लैट खरीदा था। नई स्विफ्ट कार भी ली थी। दीक्षा अच्छे जॉब में होने के कारण ऋषभ उर्फ इमरान से बेहतर कमाती थी, इसलिए ऋषभ ने किसी तरह उसे फंसा लिया होगा। बता दें कि नोएडा की रहने वाली दीक्षा अपने प्रेमी ऋषभ उर्फ इमरान और दो अन्य दोस्तों संग नैनीताल घूमने आई थी। सोमवार को होटल के कमरे में दीक्षा की लाश मिली। दीक्षा की हत्या का आरोप इमरान पर है, जो कि फरार है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

 

Leave a Reply