Friday, June 21, 2024
Uncategorized

झूठ बोल रही थी मंत्री,खुल गई पोल

मंत्री

और आम आदमी पार्टी (आप) की वरिष्ठ नेता आतिशी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करके आरोप लगाया क‍ि ऐसी खबरें हैं कि ईडी ‘आप’ नेताओं के खिलाफ दिनभर छापेमारी करेगी. केंद्र की बीजेपी सरकार जांच एजेंसियों का इस्तेमाल कर पार्टी को डराने का प्रयास कर रही है. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि प्रवर्तन निदेशालय ने आबकारी नीति मामले से जुड़े गवाहों और आरोपियों के बयान जबरन तथा धमकी देकर दिलवाए हैं. मंत्री आत‍िशी के आरोपों पर प्रवर्तन न‍िदेशायल (ईडी) ने जवाब द‍िया है. उन्‍होंने कहा है क‍ि आप नेता आतिशी मार्लेना ने प्रवर्तन निदेशालय के खिलाफ झूठे, निराधार और दुर्भावनापूर्ण आरोप लगाए गए हैं. कुछ आरोपी के सीसीटीवी फुटेज हटाने के संबंध में ईडी पर लगाए गए आरोप पूरी तरह से झूठे और दुर्भावनापूर्ण हैं. ईडी ने आप के आरोपों को निराधार बताया है और कहा है क‍ि वह कानूनी कार्यवाही करेंगे.

क्‍या था आप नेता आत‍िशी का आरोप
मंत्री आत‍िशी ने आरोप लगाया कि दो साल की जांच के बावजूद एजेंसियों को कथित आबकारी नीति घोटाले में कुछ नहीं मिला है. उन्होंने कहा क‍ि कुछ दिन पहले एक आरोपी ने पूछताछ की सीसीटीवी फुटेज देने का अनुरोध करते हुए अदालत में एक अर्जी दायर की थी. ईडी ने उनका एक सरकारी गवाह से आमना-सामना कराया था और यह ऐसे कमरे में हुआ था जहां सीसीटीवी कैमरा लगा था. उन्होंने यह अर्जी इसलिए दाखिल की क्योंकि ईडी द्वारा अदालत में दिया गया बयान उस कमरे में दर्ज किए गए बयान से अलग था. मंत्री ने दावा किया कि ईडी द्वारा अदालत में सौंपी गयी फुटेज में ‘ऑडियो’ नहीं था. उन्होंने कहा क‍ि ईडी ने पूछताछ की वीडिया फुटेज की ‘ऑडियो रिकॉर्डिंग’ डिलीट कर दी थी. हमें विश्वस्त सूत्रों से यह पता चला है कि ईडी ने मामले में की गई डेढ़ साल की पूछताछ की ऑडियो रिकॉर्डिंग डिलीट कर दी है. आतिशी ने कहा क‍ि हमने अदालत से यह भी अनुरोध किया है कि ईडी पूछताछ का वीडियो और ऑडियो रिकॉर्डिग पेश करे. जांच एजेंसी पर सवाल उठाते हुए आतिशी ने कहा क‍ि मेरे दो सवाल हैं -ईडी क्या छिपाना चाहती है? ईडी ने कितने बयान दर्ज किए, उनमें से कितने बयान कैमरे में दर्ज किए गए और उनमें से किन बयानों की ऑडियो रिकॉर्डिंग है?

ईडी ने बताया सच
प्रवर्तन न‍िदेशालय ने कहा क‍ि सभी आरोप‍ियों के बयान सीसीटीवी निगरानी के तहत दर्ज किए गए थे और आरोपी व्यक्तियों को उनकी मांग के अनुसार उनके मांगने पर उसके टेप उपलब्‍ध भी करवाए गए थे. इतना ही नहीं ट्रायल कोर्ट को भी वह वीड‍ियो प्रदान किए गए. एजेंसी ने बतया क‍ि हालांकि सीसीटीवी फुटेज को केवल वीडियो प्रारूप में रिकॉर्ड किया गया था, क्योंकि तत्कालीन उपलब्ध सीसीटीवी सिस्टम में ऑडियो रिकॉर्ड करने की सुविधा नहीं थी. ईडी अधिकारियों द्वारा कभी भी कोई ऑडियो रिकॉर्डिंग नहीं हटाई गई है. ईडी के पहले के सीसीटीवी सिस्टम में ऑडियो सुविधा उपलब्ध नहीं थी. ईडी न्यायिक कार्यवाही में पेशेवर तरीके से सैकड़ों बयान दर्ज करता है.

Leave a Reply