Saturday, February 24, 2024
Uncategorized

बेकाबू गुंडे,नपुंसक प्रशासन,हिजड़े नेता…..गैंगरेप,अस्पताल में इलाज नही,थाने में सुनवाई नही

वीडियो सबूत होने के बावजूद…

बिहार के बेगूसराय में छौड़ाही ओपी क्षेत्र के एक गांव में बीते 17 अगस्त की आधी रात को पड़ोसी के बुलावे पर घर से बाहर निकली 16 वर्षीय किशोरी का तीन युवकों ने अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म किया। इस दौरान नाबालिग की बेरहमी से पिटाई भी की गई। फिर घटनाक्रम का वीडियो बनाकर किशोरी के माता-पिता को भेज पुलिस के पास नहीं जाने की धमकी देने लगे।

बिहार के बेगूसराय में छौड़ाही ओपी क्षेत्र के एक गांव में बीते 17 अगस्त की आधी रात को पड़ोसी के बुलावे पर घर से बाहर निकली 16 वर्षीय किशोरी का तीन युवकों ने अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म किया। इस दौरान नाबालिग की बेरहमी से पिटाई भी की गई। फिर घटनाक्रम का वीडियो बनाकर किशोरी के माता-पिता को भेज पुलिस के पास नहीं जाने की धमकी देने लगे।

छौड़ाही (बेगूसराय): बिहार के बेगूसराय में छौड़ाही ओपी क्षेत्र के एक गांव में बीते 17 अगस्त की आधी रात को पड़ोसी के बुलावे पर घर से बाहर निकली 16 वर्षीय किशोरी का तीन युवकों ने अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म किया। आरोपियों ने दुष्कर्म के दौरान दरिंदगी का वीडियो भी बनाया। अपहरण और दुष्कर्म का विरोध करने पर दरिंदों ने नाबालिग की बेरहमी से पिटाई भी की।

बेटी के घर से गायब होने पर परिजन उसकी खोजबीन करने लगे। खोजबीन के दौरान सूनसान इलाके में उसकी आवाज सुनाई दी। इसके बाद जब वे घटनास्थल पर पहुंचे, तो आरोपियों ने पिस्टल निकालकर चुप रहने की धमकी दी। आरोपियों ने किशोरी के परिजनों से कहा कि अगर उन्होंने थाने में शिकायत की तो, वे दुष्कर्म का वीडियो वायरल कर देंगे।

 

पीड़ित किशोरी की गंभीर हालत देख परिजनों ने ग्रामीणों के सहयोग से उसे अस्पताल में भर्ती कराया। चिकित्सक ऑपरेशन कर किशोरी की जान बचाने का प्रयास कर रहे हैं।

पुलिस ने नहीं दर्ज की एफआईआर
आरोपियों के खिलाफ वीडियो समेत अन्य साक्ष्यों के साथ केस दर्ज कराने छौड़ाही और उसके बाद बेगूसराय महिला थाने पहुंचे किशोरी के परिजनों की कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई। परिजनों के मुताबिक, पुलिस दुष्कर्म के आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करने में आनाकानी कर रही है।

देर रात 12:30 की घटना
किशोरी के मां ने बताया कि 17 अगस्त को पूरा परिवार खाना खाकर सो रहा था। देर रात करीब साढ़े बारह बजे नींद खुली तो देखा कि बेटी घर पर नहीं थी। इसके बाद पति के साथ उसकी खोजबीन शुरू की। खोजबीन के दौरान पास के इलाके में बेटी के चिल्लाने की आवाज सुनाई दी।

बेटी की आवाज सुन जब वह घटनास्थल पर पहुंची तो देखा कि तीन आरोपी छौड़ाही ओपी क्षेत्र के पास के ही गांव के दरिंदे उनकी नाबालिग बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म कर रहे थे।

परिजनों को दी चुप रहने की धमकी

पीड़िता के परिजनों काे देखते ही दरिंदों ने उनके सामने पिस्टल तानते हुए उन्हें चुप रहने की धमकी दी।

आरोपियों ने पीड़िता के पिता के मोबाइल पर दुष्कर्म का वीडियो भी भेजते हुए धमकी दी कि अगर वे थाने गए तो दुष्कर्म का वीडियो वायरल कर उनकी बेटी को बदनाम कर देंगे। पीड़िता के परिवार को धमकाने के बाद आरोपी घटना स्थल से फरार हो गए।

इलाज के लिए भटकते रहे परिजन
पीड़ित परिजनों ने ग्रामीणों के सहयोग से किशोरी को पहले पीएचसी में भर्ती कराया। हालांकि, वहां किसी ने उसकी सुध नहीं ली। इलाज नहीं होने पर परिजनों ने पीड़िता को बेगूसराय सदर अस्पताल ले आये।

सदर अस्पताल कर्मियों ने पीएचसी से रेफर नहीं कराए जाने के कारण इलाज से इनकार कर दिया। इसके बाद स्वजनों ने पीड़िता को निजी क्लिनिक में भर्ती कराया है।

क्या कहते हैं ओपी अध्यक्ष
इस संबंध में छौड़ाही ओपी अध्यक्ष पवन कुमार सिंह ने इस तरह की किसी भी घटना होने से इनकार कर दिया है। उन्होंने दुष्कर्म के वीडियो के संबंध में भी कुछ भी जानकारी नहीं होने की बात कही है।

, छौड़ाही (बेगूसराय): बिहार के बेगूसराय में छौड़ाही ओपी क्षेत्र के एक गांव में बीते 17 अगस्त की आधी रात को पड़ोसी के बुलावे पर घर से बाहर निकली 16 वर्षीय किशोरी का तीन युवकों ने अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म किया। आरोपियों ने दुष्कर्म के दौरान दरिंदगी का वीडियो भी बनाया। अपहरण और दुष्कर्म का विरोध करने पर दरिंदों ने नाबालिग की बेरहमी से पिटाई भी की।

बेटी के घर से गायब होने पर परिजन उसकी खोजबीन करने लगे। खोजबीन के दौरान सूनसान इलाके में उसकी आवाज सुनाई दी। इसके बाद जब वे घटनास्थल पर पहुंचे, तो आरोपियों ने पिस्टल निकालकर चुप रहने की धमकी दी। आरोपियों ने किशोरी के परिजनों से कहा कि अगर उन्होंने थाने में शिकायत की तो, वे दुष्कर्म का वीडियो वायरल कर देंगे।

पीड़ित किशोरी की गंभीर हालत देख परिजनों ने ग्रामीणों के सहयोग से उसे अस्पताल में भर्ती कराया। चिकित्सक ऑपरेशन कर किशोरी की जान बचाने का प्रयास कर रहे हैं।

पुलिस ने नहीं दर्ज की एफआईआर

आरोपियों के खिलाफ वीडियो समेत अन्य साक्ष्यों के साथ केस दर्ज कराने छौड़ाही और उसके बाद बेगूसराय महिला थाने पहुंचे किशोरी के परिजनों की कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई। परिजनों के मुताबिक, पुलिस दुष्कर्म के आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करने में आनाकानी कर रही है।

देर रात 12:30 की घटना

किशोरी के मां ने बताया कि 17 अगस्त को पूरा परिवार खाना खाकर सो रहा था। देर रात करीब साढ़े बारह बजे नींद खुली तो देखा कि बेटी घर पर नहीं थी। इसके बाद पति के साथ उसकी खोजबीन शुरू की। खोजबीन के दौरान पास के इलाके में बेटी के चिल्लाने की आवाज सुनाई दी।

बेटी की आवाज सुन जब वह घटनास्थल पर पहुंची तो देखा कि तीन आरोपी छौड़ाही ओपी क्षेत्र के पास के ही गांव के दरिंदे उनकी नाबालिग बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म कर रहे थे।

परिजनों को दी चुप रहने की धमकी

पीड़िता के परिजनों काे देखते ही दरिंदों ने उनके सामने पिस्टल तानते हुए उन्हें चुप रहने की धमकी दी।

आरोपियों ने पीड़िता के पिता के मोबाइल पर दुष्कर्म का वीडियो भी भेजते हुए धमकी दी कि अगर वे थाने गए तो दुष्कर्म का वीडियो वायरल कर उनकी बेटी को बदनाम कर देंगे। पीड़िता के परिवार को धमकाने के बाद आरोपी घटना स्थल से फरार हो गए।

इलाज के लिए भटकते रहे परिजन

पीड़ित परिजनों ने  ग्रामीणों के सहयोग से किशोरी को पहले पीएचसी में भर्ती कराया। हालांकि, वहां किसी ने उसकी सुध नहीं ली। इलाज नहीं होने पर परिजनों ने पीड़िता को बेगूसराय सदर अस्पताल ले आये।

सदर अस्पताल कर्मियों ने पीएचसी से रेफर नहीं कराए जाने के कारण इलाज से इनकार कर दिया।  इसके बाद स्वजनों ने पीड़िता को निजी क्लिनिक में भर्ती कराया है।

क्या कहते हैं ओपी अध्यक्ष

इस संबंध में छौड़ाही ओपी अध्यक्ष पवन कुमार सिंह ने इस तरह की किसी भी घटना होने से इनकार कर दिया है। उन्होंने दुष्कर्म के वीडियो के संबंध में भी कुछ भी जानकारी नहीं होने की बात कही है।

Leave a Reply