Monday, March 4, 2024
Uncategorized

दाऊद इब्राहिम पर मौत का साया,अज्ञात हमलावरों से घबराया कुख्यात अपराधी, कराची छोड़ कर गुमनाम जगह

अज्ञात हमलावर भारत विरोधी आतंकियों और गुनहगारों को चुन चुन कर मौत के घाट उतार रहे हैं। हैरत की बात तो यह है कि इस बात की जानकारी पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई को भी नहीं हो रही है।

Underworld don Dawood Ibrahim: मुंबई : ​इन दिनों पाकिस्तान में अज्ञात हमलावरों का खौफ़ हर किसी को परेशान कर रहा है, इस हमलों से सामान्य जन ही क्या अच्छे अच्छे डॉन भी खौफजदा हैं। दरअसल ये तथाकथित अज्ञात हमलावर भारत विरोधी आतंकियों और गुनहगारों को चुन चुन कर मौत के घाट उतार रहे हैं। हैरत की बात तो यह है कि इस बात की जानकारी पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई को भी नहीं हो रही है। अब इन्ही अज्ञात हमलावरों की डर से डॉन दाऊद इब्राहिम एक बार फिर पाकिस्तान के कराची से भाग खड़ा हुआ है और उसने सऊदी के सुरक्षित ठिकाने जेद्दा में अपना नया ठिकाना बनाया है।

इसके साथ यह भी खबर है कि उसके साथ ही उसके तीन बेहद खास और डॉन के विश्वसनीय उसके साथ सउदी अरब के जेद्दा शिफ्ट हुए हैं। कहा जा रहा है कि दाऊद के सऊदी के प्रिंस सलमान के साथ करीबी रिश्ते हैं, ऐसे में आईएसआई की मिन्नत और इस रिश्ते की बुनियाद पर भगोड़े डॉन को नया ठिकाना मिला है।

पाकिस्तान में अज्ञात हमलावरों का खौफ़

बता दें कि पाकिस्तान के विभिन्न इलाकों में करीब दो साल से अज्ञात हमलावरों का खौफ़ पसरा हुआ है। इसे लेकर उनकी ख़ुफ़िया एजेंसी भी फिलहाल सकते में हैं। आईएसआई कत्तई नहीं चाहती कि ओसामा बिन लादेन की तरह अगर अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद के साथ कोई हादसा हो जाए। ऐसा हुआ तो उसकी बहुत किरकिरी होगी। जिसकी वजह से आईएसआई ने अपने हाथ खड़े कर लिए हैं। ऐसे में अंडरवर्ल्ड से जुड़े सूत्रों ने पुष्टि की है कि भारत के मोस्ट वांटेड आतंकी दाऊद इब्राहिम ने कराची छोड़ दिया है। दाऊद ने अब सऊदी अरब के जेद्दा को अपना बेस बनाया बना लिया है। सूत्रों का यह भी दावा है कि दाऊद अपने तीन खासमखास साथियों के साथ करीब डेढ़ साल से जेद्दा में रह रहा है।

कौन हैं दाउद के तीन ख़ास शख्स

कहा जा रहा है कि फिलहाल दाऊद के साथ उसके 3 भरोसेमंद हैं। पहला तौफीक जलियावाला, यह दाऊद का पुराना साथी है जो मुंबई बम ब्लास्ट की प्लानिंग में शामिल था। दूसरा आदमी जो दाऊद के साथ है वो उसके बचपन का दोस्त सलीम चिपलून है। कहा जाता है कि सलीम चिपलून हमेशा उसके साथ रहा है, दाऊद सलीम चिपलून को अपना लकी चार्म मानता है। इसलिए उसे हमेशा अपने साथ ही रखता है। तीसरा शख्स जो दाऊद के साथ साये की तरह रहता है वो है फहीम मचमच। फहीम मचमच के मरने की बात होती रही है लेकिन उसकी मौत की अभी तक किसी ने पुष्टि नहीं की है। कहा यह भी जा रहा है कि वो जिंदा है और दाऊद के साथ जेद्दा में उसके साथ रह रहा है।

फैमिली को लंदन में किया सेटल

जानकारी यह भी है कि दाऊद ने अपनी फैमिली को महफूज़ रखने के लिए पत्नी मेहज़बीन और बेटे को लंदन में सेटल कर दिया है। जबकि सूत्रों का दावा है कि उसने डी – कंपनी की कमान भाई अनीस और छोटा शकील को सौंप दी है। जो कराची से ही ‘धंधे’ को ऑपरेट कर रहे हैं। ख़बर यह भी है कि अब डी कंपनी सट्टेबाज़ी, ड्रग और हवाला का ही धंधा करते हैं। दाऊद का छोटा भाई मुस्तकीन इब्राहिम दुबई में बहुत बड़ा बिजनेसमैन है। वो अक्सर अपने भाई दाऊद से मिलने जेद्दा आता जाता रहता है।

पाकिस्तान में अब तक कितने बने शिकार !

भारत के दुश्मन अब पाकिस्तान में सुरक्षित नहीं हैं। शहर की सड़कों से लेकर मस्जिद तक, जेल में भी भारत के दुश्मन को जहर देकर मौत देने की बात सामने आ चुकी है। ख़बर यह है कि ‘अज्ञात’ हमलावरों ने पाकिस्तान में रह रहे आतंकी संगठन ‘लश्कर ए तैय्यबा’ के खूंखार आतंकी अदनान गाज़ी को गोली मार दी। इस हमले में उसकी मौत होने की पुष्टि भी की गई। अदनान जम्मू कश्मीर में CRPF कैंप पर हमलों का मास्टरमाइंड था।

इस साल अब तक दो दर्जन से ज्यादा भारतीय मामलों के वांछित आतंकी अज्ञात बन्दूक धारियों का शिकार हुए हैं। जिसमें पठानकोट एयर बेस पर हुए हमले और जैश का आतंकी शहीद लतीफ़ जैसा बड़ा नाम है। अब बदलते मोडस के साथ 26/11 के आतंकी हमले का मास्टरमाइंड साजिद मीर का नाम आ रहा है। एक महीने के भीतर ये तीसरी बड़ी घटना है जब भारत के मामले से जुड़े किसी बड़े आतंकी पर जानलेवा हमला हुआ है। भारत के मोस्ट वांटेड आतंकी हाफिज सईद के दामाद की भी हत्या की जा चुकी है।

Leave a Reply