Thursday, February 22, 2024
Uncategorized

41 जिंदगियां लगी है दांव पर,नपुंसक हिजड़े इसमें भी कर रहे राजनीति,काश इनके मां बाप भाई बहन बच्चे फंसे होते

उत्तरकाशी में सुरंग ध्वस्त होने और उसमें 41 मजदूरों के फँसने के मामले में अडानी समूह का नाम घसीटा जा रहा है। यहाँ तक कि सुब्रमण्यन स्वामी ने भी एक ट्वीट कर के लिखा, “उत्तराखंड के टनल को किस कंपनी ने बनाया था? जब सुरंग ध्वस्त हुआ, उस समय वहाँ कौन से हितधारक थे? क्या उनमें अडानी का भी नाम था? मैं पूछ रहा हूँ, बता नहीं रहा।” वहीं सोशल मीडिया पर कुछ अन्य लोग भी कह रहे हैं कि इस मामले में कांट्रेक्टर का लिंक अडानी समूह से है।

उत्तरकाशी सुरंग हादसे में जोड़ा जा रहा अडानी समूह का नाम

मीनाक्षी कुमारी नामक यूजर ने लिखा, “ये गोदी मीडिया नहीं बताएगा कि सुरंग में फँसे मजदूर अडानी की कंपनी ‘नवयुग’ के लिए काम कर रहे हैं।

यहाँ तक कि अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने भी इसमें अडानी का नाम घसीटा। उन्होंने लिखा, “उत्तराखंड में जो टनल ध्वस्त हुआ उसे कौन बना रहा था? ‘नवयुग इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड’ के बारे में कुछ विवरण सामने आए हैं, जिन पर ध्यान देना ज़रूरी है।” इसके साथ ही उन्होंने ‘द वायर’ का एक लिंक भी शेयर किया।

एक यूजर ने तो दावा कर दिया कि सुरंग का निर्माण करने वाली कंपनी का 75% स्वामित्व अडानी समूह के पास है।

इसी रिपोर्ट के आधार पर चीन की फंडिंग लेने वाले न्यूज़क्लिक से जुड़े अभिसार शर्मा ने भी दावा किया कि अडानी के जुड़े होने के कारण इस मामले में जाँच नहीं हो रही है।

उत्तराखंड सुरंग हादसा: अडानी समूह ने जारी किया स्पष्टीकरण

वहीं इस तरह की अफवाहों के फैलने के बाद अब अडानी समूह ने बयान जारी कर के सफाई दी है। सोमवार (27 नवंबर, 2023) को अहमदाबाद से बयान जारी कर के अडानी समूह ने इस तरह की हरकतों को कुटिल करार दिया है। कंपनी ने उत्तरकाशी में सुरंग ध्वस्त होने की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि उसका इससे कोई संबंध नहीं। अडानी समूह ने कहा कि हमारे संज्ञान में आया है कि कुछ तत्व कंपनी का नाम उत्तरकाशी की घटना से जोड़ने में लगे हुए हैं।

अडानी समूह ने आगे कहा, “हम उत्तरकाशी में सुरंग ध्वस्त होने की दुर्भाग्यपूर्ण घटना में अपना नाम जोड़ने जाने के कुटिल प्रयासों और ऐसा करने वालों की कड़ी निंदा करते हैं। हम पूरा जोर देकर स्पष्ट कर रहे हैं कि अडानी समूह या इसकी कोई भी कंपनी या किसी भी प्रकार के सुरंग के निर्माण से कोई प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष कनेक्शन नहीं है। यहाँ तक कि टनल बनाने में जो कंपनी शामिल है, उसमें भी हमारा न कोई निवेश है और न ही उसके कोई शेयर हमारे पास हैं।”

अडानी समूह ने अपने प्रवक्ता का जरिए बयान जारी कर के साफ़ किया कि सुरंग में फँसे मजदूरों और उनके परिवारों से उसकी पूरी सहानुभूति है।

Leave a Reply