Monday, June 24, 2024
Uncategorized

15 को गोलियां मारी नही तो 16 को मारते ही मारते,मीडिया हर मिनट की लाइव रिपोर्ट दे रहा था गुंडों की

अतीक अहमद और अशरफ अब इस दुनिया में नहीं हैं. इसी महीने की 15 तारिख को तीन बदमाशों ने दोनों की गोली मारकर बेरहमी से हत्या कर दी.बदमाशों ने पूरी प्लानिंग के तहत घटना को अंजाम दिया. अब इस हत्याकांड में हर दिन नए-नए खुलासे हो रहे हैं. हत्या से करीब 2:30 घंटे पहले तीनों बदमाश, जिस होटल में रुके थे वहां से निकल चुके थे.

बताया जा रहा है कि सबसे पहले शूटर लवलेश होटल से निकला. इसके बाद सनी और अरुण निकले. तीनों ई रिक्शा से कॉल्विन हॉस्पिटल पहुंचे थे. बदमाश अतीक और अशरफ की हर हाल में हत्या करना चाहते थे. अगर 15 तारीख को हत्या नहीं कर पाते तो वह 16 को दोबारा मर्डर की कोशिश करते. मीडिया अतीक और असद की लाइव रिपोर्टिंग कर रही थी. टीवी पर खबरें चल रही थीं. इसी के जरिए तीन बदमाश अतीक और अशरफ के एक-एक मूवमेंट पर नजर रखे हुए थे.

इस हत्याकांड का मास्टरमाइंड सनी बताया जा रहा है. हालांकि, अन्य दो बदमाश लवलेश और अरुण सनी को पहले से नहीं जानते थे. वह किसी दूसरे के माध्यम से सनी तक पहुंचे थे. पुलिस जांच में ये भी सामने आया है कि तीनों बड़ा बदमाश बनना चाहते थे. इसलिए उन्होंने अतीक और अशरफ की हत्या की. पुलिस की टीम ने तीनों से पूछताछ की है.

पुलिस के अधिकारियों के मुताबिक, तीनों बदमाश मीडियाकर्मी बनकर वारदात को अंजाम देने पहुंचे थे. पत्रकार अतीक और अशरफ से सवाल कर रहे थे. तभी तीनों ने अचानक ही पिस्टल से दोनों पर गोलियां बरसानी शुरू कर दीं. इस हमले में अतीक और अशरफ की मौके पर ही मौत हो गई. जिस समय यह घटना हुई, उस समय काफी संख्या में अतीक और अशरफ की सुरक्षा में पुलिसकर्मियों की तैनाती थी. इस हत्याकांड को लेकर पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठ रहे हैं.

Leave a Reply